Loading...

3 सैनिकों पर मूक-बधिर महिला का 2 साल तक रेप करने का आरोप | CRIME NEWS

इंदौर। डीआईजी इंदौर को एक मूक-बधिर महिला ने आवेदन सौंपकर मामला दर्ज करने की मांग की है। घटना पुणे स्थित मिलिट्री अस्पताल की है लेकिन शिकायत मूक-बधिर सहायता केन्द्र इंदौर में की गई। इसके बाद यह मामला मिलिट्री अस्पताल के कमांडेंट को बताया गया। वो अपने स्तर पर विभागीय जांच कर रहे हैं। महिला ने बताया कि उसके पति की मौत के बाद पहले एक सैनिक ने उसका रेप किया, फिर 2 और सैनिकों से गंदा काम शुरू कर दिया जो 2 साल से जारी था। 

इंटरनेट से मूक-बधिर सहायता केन्द्र का पता किया
पुणे के मिलिट्री अस्पताल में काम करने वाली मूक-बधिर महिला ने इंटरनेट के माध्यम से इंदौर स्थित मूक-बधिर सहायता केन्द्र का नंबर निकाला और यहां संपर्क कर वीडियो कॉल के माध्यम से अपनी पीड़ा बताई। इंदौर से मिली सहायता के बाद आरोपियों के खिलाफ मिलिट्री द्वारा जांच की जा रही है। वहीं साेमवार को महिला ने डीआईजी को मामले में एफआईआर दर्ज करने के लिए आवेदन दिया।

जुलाई 2018 में समझाया था अपना दर्द
मप्र पुलिस मूक-बधिर सहायत केन्द्र के अनुसार जुलाई 2018 में पुणे के मिलिट्री अस्पताल में काम करने वाली मूक-बधिर महिला ने संपर्क किया था। सहायता केन्द्र की मोनिका ज्ञानेन्द्र पुरोहित ने वीडियो कॉल कर साइन लैंग्वेज द्वारा महिला से बात की तो पीड़िता ने बताया कि उसके साथ कुछ सैनिकों द्वारा पिछले कई सालों से दुष्कर्म किया जा रहा है।

पहले वार्ड मास्टर ने रेप किया, फिर 2 और करने लगे
महिला की पीड़ा सुनने के बाद मोनिका पुरोहित और ज्ञानेन्द्र पुरोहित ने खुद पुणे जाकर महिला से चर्चा की। महिला ने उन्हें बताया कि उसके पति की मौत हो चुकी है। वह बोल व सुन नहीं सकती इसका फायदा उठाकर अस्पताल में कार्यरत वार्ड मास्टर (नायक रैंक) हारुन रशिद ने दो साल पहले अस्पताल में ही उसके साथ दुष्कर्म किया। इसके बाद उसी अस्पताल में कार्यरत नर्सिंग असिस्टेंट मोहम्मद मुथाझिम और रविन्द्र सिंह ने ब्लैकमेल कर उसके साथ दुष्कर्म किया। जो वर्तमान में भी जारी है। महिला की बात सुनकर इंदौर के मूक-बधिर सहायता केन्द्र की टीम ने मिलिट्री अस्पताल के कमांडेंट को शिकायत दर्ज कराई। इस शिकायत पर मिलिट्री द्वारा कार्रवाई की जा रही है। 

दिया आवेदन पत्र
वहीं सोमवार को महिला ने इंदौर डीआईजी को भी एक आवेदन दिया। महिला द्वारा दिए गए आवेदन में सैनिकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज किए जाने का निवेदन किया गया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि मामला मिलिट्री से जुड़ा है इसलिए प्रकरण दर्ज करने से पहले मिलिट्री अधिकारियों को इस संबंध में अवगत कराया जाएगा इसके बाद ही कायमी की जाएगी।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com