पैसा कमाने में बिजी DOCTOR को पता ही नहीं चला, कंपाउंडर ने बेटी को फंसा लिया | MP NEWS

26 August 2018

इंदौर। कुछ डॉक्टरों में 2 बातें कॉमन मिलतीं हैं। पहली वो पैसा कमाने में इतने मशगूल हो जाते हैं कि परिवार की तरफ ध्यान ही नहीं देते और दूसरा वो अपने सहयोगी स्टाफ को घरेलू नौकर बना देते हैं। इस केस में इन्हीं दोनों बातों का खामियाजा एक डॉक्टर को भुगतना पड़ा। मामला कितना हाईप्रोफाइल है, आप इसी बात से समझ जाएंगे कि डॉक्टर के एक फोन पर 2 थानों की पुलिस एक्टिव हुई और एयरपोर्ट पर चेकइन कर चुके कंपाउंडर और डॉक्टर की बेटी को पकड़ लिया। 

एरोड्रम टीआई अशोक पाटीदार ने बताया कि घटना शनिवार की है। डॉक्टर की बेटी मां को भंवरकुआं स्थित एक इंस्टिट्यूट में फीस जमा करने का बोलकर घर से निकली थी। कुछ देर बाद मां ने इंस्टिट्यूट में फोन किया तो पता चला कि बेटी वहां पहुंची ही नहीं। इस पर मां ने बेटी को कई बार कॉल किए, पर उसने फोन नहीं उठाया। कुछ देर बाद पिता के मोबाइल पर अकाउंट से 18 हजार रुपए कटने का मैसेज आया तो उन्हें पता चला कि किसी ने उनके खाते का इस्तेमाल कर कोलकाता के दो टिकट कराए हैं। इस पर उन्होंने पत्नी से संपर्क किया तो पता चला बेटी गायब है, फोन नहीं उठा रही।

फ्लाइट केे लिए चेक-इन करा चुके थे
डॉक्टर ने तत्काल पुलिस कंट्रोल रूम को अपहरण होने की सूचना दी। इस पर पुलिस टीम एयरपोर्ट परिसर पहुंची और सीआईएसएफ के अधिकारियों को लिखित में सूचना देकर कोलकाता फ्लाइट के पैसेंजर को चेक करने का निवेदन किया तो पता चला लड़की डॉक्टर के यहां काम करने वाले कंपाउंडर मनिमय विश्वास (24) निवासी सेमलिया चाऊ सिमरोल के साथ कोलकाता जाने वाली फ्लाइट के लिए चेक-इन करा चुकी है। इस पर पुलिस ने इंडिगो फ्लाइट के मैनेजर को लिखित जानकारी दी और सीआईएसएफ की मदद से लड़की और आरोपी मनिमय विश्वास को पकड़ लिया। 

लड़की बोली- माता-पिता से नफरत है, मर जाऊंगी, पर वापस नहीं जाऊंगी
एरोड्रम टीआई अशोक पाटीदार ने बताया कि लड़की ने जिस आधार कार्ड से चेक इन कराया था, उसमें उसकी उम्र 18 साल 1 माह थी। पिता से जब 10वीं और 8वीं की मार्कशीट मंगवाई गई तो उसमें 16 साल 1 माह पाई गई। बेटी को जब पुलिस वापस लाने लगी तो उसने एयरपोर्ट परिसर में जमकर हंगामा किया। वह चीख-चीख कर बोल रही थी कि मुझे मेरे माता-पिता से नफरत है, मैं उनके साथ नहीं जाऊंगी। 

कुछ दिनों पहले ही निकाला था
इधर आरोपी मनिमय बिश्वास के बारे में पुलिस ने बताया कि वह डॉक्टर के यहां कंपाउंडर था। इसी दौरान उसका घर में भी आना-जाना था। कुछ दिनों पूर्व उसकी हरकतों के कारण डाॅक्टर दंपती ने उसे नौकरी से निकाल दिया था। बताते हैं कि नौकरी पर रहने के दौरान ही उसने डॉक्टर की बेटी को प्रेम जाल में फंसा लिया था। 

डॉक्टर ने कंपाउंडर को बेटी की सेवा में लगा रखा था
पता चला है कि डॉक्टर ने अपने कंपाउंडर को बेटी सेवा में घरेलू नौकर की तरह लगा रखा था। कंपाउंडर ही डॉक्टर की बेटी को भंवरकुआं ट्यूशन छोड़ने व लाने के लिए भी जाता था। इसी दौरान दोनों नजदीक आ गए। जब डॉक्टर को इस बात का पता चला तो उसने कंपाउंडर को नौकरी से निकाल दिया और फिर शुरू हुई फिल्मी बगावत की शुरूआत। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts