Advertisement

BJP का सबसे पुराने दोस्त से रिश्ता टूटा, महाराष्ट्र में अकेले चुनाव लड़ेगी भाजपा | NATIONAL NEWS



मुंबई। भाजपा का अपने सबसे पुराने दोस्त शिवसेना से रिश्ता टूट गया है। बस औपचारिक ऐलान शेष है। शुक्रवार को संसद में मॉनसून सत्र कें दौरान विपक्षी दलों द्वारा लाए गए अविश्वास प्रस्ताव पर भी शिवसेना ने सरकार का साथ नहीं दिया, बल्कि सदन की बहस में भी हिस्सा नहीं लिया था। इसके बाद अमित शाह ने अपने कार्यकर्ताओं से तैयारियां करने को कहा है। अगला चुनाव भाजपा अकेले लड़ेगी। 

बता दें कि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान शिवसेना ने पहले तो प्रस्‍ताव के विरोध में वोट करने के लिए व्हिप जारी किया था लेकिन बाद में व्हिप वापस ले लिया था। इतना ही नहीं शिवसेना नेताओं ने संसद में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण की भी जमकर तारीफ की थी। शिवसेना के इस कदम से बीजेपी नाराज है। महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीटें हैं और विधानसभा की 288 सीटें हैं और दोनों ही जगहों पर शिवसेना और बीजेपी के बीच तालमेल है। इतना ही नहीं बीएमसी में भी दोनों ही दलों के गठबंधन की सरकार है।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह रविवार को महाराष्ट्र के दौरे पर थे। इस दौरान उन्होंने महाराष्ट्र बीजेपी नेताओं और सगंठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ एक बैठक भी की। बैठक को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को आगामी लोकसभा चुनावों में महाराष्ट्र की सभी सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने के लिए संगठन को मजबूत और चुनावों की तैयारी करने के लिए कहा। उन्होंने तो यहां तक कहा कि सूबे में बीजेपी की स्थिति इतनी मजबूत होनी चाहिए कि अगर शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी मिलकर भी चुनाव लड़ें तो बीजेपी को ना हरा सकें।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com