शिवपुरी: राममंदिर से 15 करोड़ का स्वर्ण कलश चोरी, 55 किलो था वजन

26 July 2018

शिवपुरी। खनियाधानां के राजमहल में स्थित रामजानकी मंदिर के लगभग 55 किलो सोने के कलश के चोरी हो गया। इस घटना के विरोध में खनियाधाना नगर के व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद कर दिए है। जल्द की चोरी हुआ कलश नही मिला तो उग्र आंदोलन की धमकी दी है। पुलिस ने इस मामले में तत्काल सक्रियता दिखाते हुए अपनी टीमे महाराष्ट्र में रवाना कर दिया है।

300 साल पहले ओरछा मंदिर के साथ स्थापित हुआ था स्वर्ण कलश

खनियाधाना रियासत में इस मंदिर का विशेष महत्व है, मंदिर के सरक्षंक शैलेन्द्र सिंह पुत्र भानुप्रताप सिंह का कहना है कि महल में स्थित रामजानकी मंदिर का ऐतिहासिक महत्व है,हमारे पूर्वजो ओर इस जनता की जनता की आराधना स्थली रही है। 300 वर्ष पूर्व जब इस मंदिर का निर्माण कराया गया था तब ओरछा धाम के रामराजा सरकार के मंदिर और खनियाधानां के इस रामजानकी मंदिर के कलश का निर्माण कराया था। और दोनो मंदिरो की गुबंदो पर एक साथ दोनो कलशों को स्थापित किया था। 

सन 83 और 2006 में भी हुआ था चोरी का प्रयास

बताया जा रहा है कि वर्ष 1983 और 2006 में भी चोरो ने मंदिर के कलशों को चुराने का प्रयास किया था, लेकिन चोर इस कलश को चोरी करने में सफल नही रहे, चोरों को चोरी करते ही पुलिस ने धर दबोचा। सन 2006 में कुछ अज्ञात चोर मंदिर की गुम्बद पर चढने में सफल हो गए थे, लेकिन कलश को उतार नही सके और वह चोरी में प्रयुक्त समान वही छोड कर भाग गए थे। 

हाई प्रोफाईल चोर है, चूड़िया से खोला है कलश 

बताया जा रहा कि अभी कुछ दिन पूर्व मंदिर में पुताई का काम चला था, महाराष्ट्र के नांदेड के उक्त मजदूर बताए जा रहे है। इस 55 किलो सोने के वजनी कलश की लम्बाई 4 फुट बताई जा रही है। उक्त कलश मंदिर के गुंबद पर चुड़ियो से कसा हुआ था। चोरो ने मंदिर के गुंबद पर लगे पत्थरों के कंगूरो की सहयता से चढे है, और कलश की चूड़िया खोल कर उतारा है। चोरो की गैंग ने इस मंदिर की रैकी की है। पुलिस को वहां चोरो के जूतो के निशान मिले ह। पुलिस का डॉग कुछ दूरी तक गया और लौट आया। पुलिस ने अपनी टीमे महाराष्ट्र की ओर रवाना कर दी है। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...