Loading...

अरुण यादव ने लीक की थी कमलनाथ की कलई खोलने वाली चिट्ठी!

भोपाल। बीते रोज कमलनाथ की मानसिकता को स्पष्ट कर देने वाली एक चिट्ठी वायरल हुई थी। यह चिट्ठी कमलनाथ ने राहुल गांधी को लिखी थी। चिट्ठी में लिखा था कि मप्र में सहकारिता के जनक माने जाने वाले नेता स्व. सुभाष यादव की पुण्यतिथि पर कार्यक्रम आयोजित है। कमलनाथ ने राहुल को निमंत्रित करते हुए लिखा था कि सुभाष यादव मप्र के ओबीसी नेता थे। इस आयोजन से 61 विधानसभा सीटों पर कांग्रेस को ओबीसी वोटों का फायदा होगा। अब बताया जा रहा है कि यह चिट्टी स्वत्र सुभाष यादव के बेटे अरुण यादव ने ही लीक की है लेकिन अरुण यादव ने इसका खंडन किया है। 

उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए हैं। अरुण यादव ने लिखा है: 
दशकों तक मेरे पूज्य पिता और श्री कमलनाथ जी के परस्पर सगे भाइयों वाले पारिवारिक रिश्ते रहे हैं। राहुल जी को संबोधित पत्र में उनके द्वारा मेरे पिताश्री के सम्मान में प्रयुक्त भाषा उनकी दिली भावनाओं की अभिव्यक्ति है, जिसे भाजपा पचा नहीं पा रही है। इसके बाद उन्होंने लिखा: 
मेरे पूज्य पिता और परिवार ने अपनी समूची राजनैतिक-पारिवारिक ताकत साम्प्रदायिक, अधिनायकवादी और तानाशाही प्रवर्तियों से लड़ने में झौकी है, उस विरासत को हम विस्मृत कैसे कर सकते हैं। 

क्यों नाराज हैं अरुण यादव

दरअसल, कमलनाथ ने योजनाबद्ध तरीके से अरुण यादव की कुर्सी छीन ली। कमलनाथ को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने से कुछ दिन पहले यह खबर मीडिया में लीक हुई थी। अरुण यादव दिल्ली गए और बातचीत की। बताया जा रहा है ​कि उन्होंने कमलनाथ से भी बात की। सभी ने खबर को निराधार बताया। अरुण यादव अश्वस्त होकर मप्र लौट आए और फिर अचानक उन्हे पता चला कि आज से वो कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नहीं है। दूसरी बड़ी बात यह कि अरुण यादव क्या कोई भी बड़े अपने स्वर्गवासी पिता की पुण्यतिथि को केवल वोट जुटाने का साधन तो कतई नहीं मान सकता। 
BHOPAL SAMACHAR | HINDI NEWS का 
MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए 
प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com