अतिथि विद्वानों के संदर्भ में उच्च शिक्षा विभाग का आदेश जारी

28 June 2018

भोपाल। प्रदेश के सरकारी कॉलेजों में सेवारत अतिथि विद्वानों को अब हर महीने 30 हजार रुपए वेतन मिलेगा। हालांकि यह वेतन उन्हें प्रतिदिन 7 घंटे महाविद्यालय में बिताने और प्राचार्य द्वारा सौंपे गए समस्त शैक्षणिक और गैर-शैक्षणिक कार्य का संताषजनक जवाब मिलने पर दिया जाएगा। इसके आदेश बुधवार को उच्च शिक्षा विभाग के अपर सचिव वीरन सिह भलावी ने जारी कर दिए है।

राज्य शासन ने प्रदेश के शासकीय महाविद्यालयों में स्वीकृत एवं रिक्त पदों के विरूद्ध प्रति कालखंड मानदेय के आधार पर प्रतिवर्ष अतिथि विद्वानों को 11 माह के लिए आमंत्रण देने की नीति के अंतर्गत वर्तमान में प्रचलित व्यवस्था में परिवर्तन करते हुए यह निर्णय दिया है। जिसके चलते संपूर्ण शैक्षणिक वर्ष की कलावधि के लिए प्रति कालखंड के स्थान पर दैनिक मानदेय का निर्धारण करते हुए न्यूनतम निश्चित मानदेय दिया जाएगा।

बता दें कि मप्र लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की जाने वाली असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती परीक्षा को निरस्त कर अपने नियमितिकरण की मांग को लेकर प्रदेश भर के अतिथि विद्वान लंबे समय से आंदोलन कर रहे थे। इतना ही नहीं अतिथि विद्वानों की यह नियुक्ति तीन साल के लिए होगी। गर्मियों के अवकाश के दौरान भी इन्हें वेतन दिया जाएगा। साथ ही छुट्टियों का भी लाभ दिया जाएगा। इसी तरह की खबरें नियमित रूप से पढ़ने के लिए MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com


-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Popular News This Week