पूर्व महिला IPS आशा गोपालन के नाम पर 35 लाख की ठगी

Saturday, June 23, 2018

भोपाल। 80 के दशक में डाकुओं से सीधा लोहा लेने वाली मप्र कैडर की IPS ASHA GOPALAN और कोलकाता के प्रतिष्ठित और मदर टैरेसा के नाम से जुड़े NGO में निवेश का झांसा देकर एक शातिर व्यक्ति ने 35 लाख हड़प लिए। उसने INVEST करने वालों को प्रतिमाह 15 से 20 फीसदी तक मुनाफा देनो का लालच दिया था। फरियादी अपने रुपए मांगने पहुंचे तो पुलिस में शिकायत कर उन्हें थाने में बंद भी करा दिया। शिकायत एसपी के पास पहुंचने पर एमपी नगर थाने में आरोपित के खिलाफ ठगी का केस दर्ज किया गया है।

एमपी नगर पुलिस के मुताबिक रोहित नगर निवासी शुभम राय एमपी नगर जोन-2 स्थित सोमा टावर में गिटार क्लास चलाते हैं। वर्ष-2016 में लिंक रोड नंबर-2 स्थित अर्जुन नगर निवासी धर्मेंद्र द्विवेदी उर्फ प्रभात द्विवेदी ने अपने बेटे आयुष (14) का दाखिला गिटार सीखने के लिए कराया था। जल्द ही शुभम और धर्मेंद्र और उसकी पत्नी के बीच अच्छी जान पहचान हुई और पारिवारिक संबंध बन गए। धर्मेंद्र ने शुभम को बताया था कि वह पूर्व आईपीएस आशा गोपालन के भोपाल में चल रहे एनजीओ नित्य सेवा सोसायटी और कोलकाता स्थित मदर टैरेसा संस्थान में नौकरी करता है। साथ ही उसने बताया था कि उसके चाचा प्रभात द्विवेदी का पेट्रोल पंप के अलावा बड़ा कोयला उद्योग है।

NITYA SEVA SOCIETY BHOPAL में INVESTMENT के बदले 20% ब्याज का लालच दिया

भरोसा जम जाने पर अप्रैल-17 में धर्मेंद्र ने शुभम के घरेलू जरूरत बताते हुए कुछ रुपए उधार लिए। इसके बाद एनजीओ में निवेश पर प्रति माह 20 फीसदी के मुनाफे का झांसा देते हुए शुभम को निवेश करने के लिए राजी कर लिया। मई-17 में शुभम ने डेढ़ लाख रुपए जमा कर दिए। जुलाई-17 में उसने शुभम से पहले 40 फिर 26 हजार रुपए जमा कराए। पहले माह उसने शुभम को 20 फीसदी मुनाफा भी दिया। इसके बाद धर्मेंद्र ने एनजीओ के काम के सिलसिले में अगस्त-17 में पांच लाख रुपए मांगे। इसके लिए शुभम ने अपने दोस्तों और रिश्तेदारों से 5 लाख रुपए जुटा कर धर्मेंद्र के बताए खाते में जमा कर दिए।

दोस्त, रिश्तेदार सबको जाल में फंसा लिया

सितंबर-17 में शुभम ने 5 लाख वापस मांगे, तो उसने काम में लेटलतीफी होने का बहाना बताते हुए डेढ़ लाख रुपए वापस कर दिए। इस बीच धर्मेंद्र ने अपने जाल में शुभम के दोस्तों, परिचितों, कोचिंग की बिल्डिंग के मालिक आदि को झांसे में लेकर अगस्त-17 से फरवरी-18 तक लाखों रुपए हड़प लिए। निवेश के बाद भी जब तय मुनाफा नहीं मिला तो शुभम और उसके साथियों को संदेह हुआ। अप्रैल-18 में उन लोगों ने धर्मेंद्र द्विवेदी पर रुपए वापसी का दबाव बनाना शुरू कर दिया। इस पर रुपए देने के लिए धर्मेंद्र ने उज्जैन, इंदौर, कोलकाता, धनबाद,गया आदि बुलाया, लेकिन रुपए नहीं दिए।

टीटी नगर थाने में बंद कर दिया 

शुभम ने बताया कि 13 जून को वह अपने साथियों के साथ रुपए वापस मांगने धर्मेंद्र के अर्जुन नगर स्थित घर पहुंचा, तो साजिश के तहत उसके पड़ोसियों ने डायल-100 को फोन कर दिया। पुलिस सभी को लेकर टीटी नगर थाने पहुंची। शुभम ने बताया कि पुलिस ने उसे धारा-151 के तहत थाने में बंद कर दिया। अगले दिन उसकी जमानत हो सकी। शुभम ने बताया कि धर्मेंद्र ने प्रभात द्विवेदी के नाम से भी बैंक अकाउंट खोल रखा है। उसमें भी फोटो धर्मेंद्र का ही लगा हुआ है। शुभम ने बताया कि आरोपित ने नित्य सेवा सोसायटी और कोलकाता के मदर टैरेसा सेवा संस्थान के नाम का दुरुपयोग करते हुए उन लोगों के साथ 35 लाख रुपए की धोखाधड़ी की है।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week