यूपी| सनराइज हॉस्पिटल ने 22 साल के युवक को गर्भवती बता दिया

18 May 2018

पंकज कुमार शर्मा/अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ स्थित सनराइज हॉस्पिटल ने पेट दर्द का इलाज कराने आए एक युवक को अल्ट्रासाउंड के बाद प्रेगनेंट बता दिया, जिसके बाद से युवक सदमे में है। एटा जिले के 22 वर्षीय संतोष (काल्पनिक नाम) को अल्ट्रासाउंड के बाद डॉक्टर ने प्रेगनेंट बताया है। रिपोर्ट के बाद संतोष को मानसिक आघात पहुंचा है और बदनामी के डर से रो-रोकर बुरा हाल है। संतोष ने इस रिपोर्ट को लापरवाही बताते हुए इसे चुनौती दी है और जिले के डीएम, सीएमओ से लेकर मुख्यमंत्री तक से इसकी लिखित शिकायत की है। मामला जिले के क्वार्सी थाना क्षेत्र स्थित सनराइज हॉस्पिटल का है। 

एटा जिले के अलीगंज निवासी संतोष पिछले 4 साल से एक सीमेंट फैक्ट्री में कार्यरत हैं। पिछले कुछ दिन से उन्हें पेट में दर्द की शिकायत थी, जिसके बाद एक मित्र की सलाह पर वह गुरुवार को इलाज कराने सनराइज हॉस्पिटल पहुंचे। अब संतोष का कहना है हॉस्पिटल में उनके दो टेस्ट हुए जिसमें से एक अल्ट्रासाउंड भी था। जांच के बाद उन्हें रिपोर्ट देकर कह दिया गया कि किसी अच्छे डॉक्टर से इलाज करा लें। 

सुपरवाइजर को रिपोर्ट दिखाने पर पता चली प्रेग्नेंसी की बात 

पढ़ा-लिखा नहीं होने पर संतोष ने यह रिपोर्ट फैक्ट्री पहुंचकर अपने सुपरवाइजर को दिखाई। रिपोर्ट देखकर सुपरवाइजर भी हैरत में आ गया और संतोष को उनके प्रेगनेंट होने की बात बताई। अपने प्रेगनेंट होने की बात सुन कर संतोष के पैरों तले जमीन खिसक गई। एक अन्य डॉक्टर ने भी इसकी पुष्टि की। बात पूरी फैक्ट्री और जानने वालों में फैलने के कारण बदनामी के डर से पीड़ित तनाव में है। 

हॉस्पिटल को सबक सिखाने के लिए की शिकायत 

मरीजों से खिलवाड़ करने वाले ऐसे हॉस्पिटल को सबक सिखाने के लिए संतोष ने जिले डीएम के नाम की गई शिकायत में संचालक डॉ. आलोक गुप्ता और अल्ट्रासाउंड करने वाले स्टाफ पर कठोर कार्रवाई की मांग की है। पीड़ित संतोष ने शिकायत की कॉपी सीएमओ, अपर निदेशक, प्रमुख सचिव और मुख्यमंत्री को भी भेजी है। शिकायत के साथ अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट भी संलग्न की गई है। 

रिपोर्ट पर है डॉक्टर आलोक गुप्ता का साइन 

अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट सनराइज हॉस्पिटल के डॉ. आलोक गुप्ता के हस्ताक्षर से गुरुवार को जारी की गई है। रिपोर्ट में 22 वर्षीय संतोष की जांच का निष्कर्ष यह है कि उनके बच्चादानी की नली (फलोपियन ट्यूब) में गर्भ ठहर गया है। इसी रिपोर्ट में गुर्दे की नली में सूजन भी बताई गई है। रिपोर्ट से जाहिर है कि अल्ट्रासाउंड गुर्दे का ही किया गया। लेकिन इसी जांच में संतोष को प्रेगनेंट भी घोषित कर दिया गया। 

जांच के बाद दोषियों पर कार्यवाई का मिला आश्वासन 

वहीं, अपर नगर मैजिस्ट्रेट द्वितीय अनिल कुमार त्रिपाठी का कहना है कि पूरे मामले की जांच की जा रही है। जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। वहीं इस पूरे मामले में जब डॉ. आलोक गुप्ता से संपर्क करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...