करवाचौथ से पहले महिलाएं भी तो खातीं हैं: कांग्रेस का कुतर्क | NATIONAL NEWS

Tuesday, April 10, 2018

नई दिल्ली। दलित उत्पीड़न को मुद्दा बनाने के लिए राजघाट पर उपवास से पहले कांग्रेसियों ने छोले-भटूरे पार्टी की। यह फोटो वायरल हुई और सारा मुद्दा फुर्र हो गया। सुर्खियों में रही तो केवल छोले-भटूरे पार्टी। अब कांग्रेस ने इसे सही सिद्ध करने के लिए कुतर्क दिया है। कांग्रेसी नेताओं का कहना ह कि उपवास के पहले भोजन करने का कोई पहला मामला नहीं है। करवाचौथ का उपवास शुरू करने से पहले महिलाएं भी तो खाती हैं। जातीय हिंसा के विरोध और सांप्रदायिक सद्भाव के लिए कांग्रेस ने उपवास की घोषणा की थी। राहुल गांधी की अगुवाई में उपवास शुरू होने के कुछ देर बाद पता चला कि कांग्रेस नेता नाश्ता करने के बाद उपवास पर बैठने आए थे। राजघाट पर बैठे कांग्रेस के दूसरे नेताओं को भी इस बारे में पता चल गया। फिर कांग्रेस नेता अलग-अलग तरह से बात करने लगे। 

कुछ नेताओं का कहना था कि करवा चौथ का उपवास रखने से पहले महिलाएं सुबह उठ कर कुछ खाती हैं या नहीं। सभी ऐसा करते हैं, इसमें क्या बुराई है। इस बारे में पूछे जाने पर लवली ने कहा कि उपवास सुबह साढ़े दस बजे से था। वे लोग कल देर रात तक तैयारी में व्यस्त थे। सुबह करीब आठ बजे नाश्ता करने गए थे। इसमें कुछ भी गलत नहीं है। 

अब तक पीएम नरेंद्र मोदी के पकौड़े बेचने के बयान पर कांग्रेस, बीजेपी को घेरते आ रही थी, लेकिन सोमवार को स्थिति बदल गई। कांग्रेस नेताओं के छोले-भटूरे खाने पर बीजेपी इस कदर पीछे पड़ी कि चारों तरफ चर्चा छिड़ गई। कुछ दिन पहले मीडिया में पकौड़ा चर्चा में था। सोमवार को छोले-भटूरे पर राजनीति शुरू हो गई। 

बीजेपी नेता हरीश खुराना ने एक फोटो ट्वीट किया, जिसमें दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अजय माकन, अरविंदर सिंह लवली, हारून यूसुफ समेत कई अन्य नेता एक रेस्तरां में नाश्ता करते हुए नजर आ रहे हैं। खुराना ने ट्वीट किया, 'वाह, कांग्रेस नेता! उन्होंने लोगों को उपवास के लिए आमंत्रित किया, लेकिन वे खुद रेस्तरां में छोले-भटूरे का स्वाद ले रहे हैं। लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं। सूत्रों की मानें तो नाश्ते के दौरान मौजूद लोगों में से किसी एक ने यह फोटो ली और बाद में उन्होंने यह फोटो शेयर की, जो बीजेपी नेता तक पहुंच गया। 

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने कहा, 'हमारा कार्यक्रम पहले से तय था। यह उपवास सांकेतिक था। उससे पहले हम कहां, क्या खाते हैं यह महत्वपूर्ण नहीं था। महत्वपूर्ण हमारा मुद्दा था।'

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week