LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें




PNB घोटाले के बाद BANK में आपका पैसा सुरक्षित है या नहीं | NATIONAL NEWS

16 February 2018

भोपाल। पंजाब नेशनल बैंक (PUNJAB NATIONAL BANK) मुंबई ब्रांच में हुए 11 हजार 346 करोड़ के घोटाले का असर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में भी दिखाई दे रहा है। खाताधारकों ने किसी भी काल्पिनिक खतरे से बचने के लिए अपने पैसे निकालने शुरू कर दिए हैं। वहीं कई खाताधारक यह पता लगा रहे हैं कि उनके पैसे बैंक में सुरक्षित हैं या नहीं। कई लोगों ने पीएनबी की ब्रांच में विजिट किया तो कई लोगों ने फोन पर जानकारी जुटाई। 

वाट्सएप पर खबर, बैंक दिवालिया होने वाला है

गुरूवार को शहर की सभी 23 ब्रांचों में लोगों की भीड़ रही। पीएनबी घोटाले की खबर आते ही वाट्सएप ग्रुप्स में अफवाहें फैलने लगीं। अधिकांश ग्रुप पर बैंक बंद होने की सूचना ने लोगों को परेशान किया। कुछ खाताधारकों को उनकी जमा पूंजी डूब जाने की फर्जी सूचना भी मिली। सूचना के बाद हजारों लोगों ने पीएनबी की शाखाओं में संपर्क किया। पीएनबी के खाताधारक राहुल यादव ने बताया कि वाट्सएप ग्रुप से उन्हें घोटाले के बाद जल्द ही बैंक बंद होने की सूचना मिली। उन्होंने एमपी नगर ब्रांच में संपर्क किया। उन्होंने बताया कि बैंक अधिकारियों ने उन्हें बैंक बंद नहीं होने का आश्वासन देकर समझाया। वहीं खाताधारक आरके श्रीवास्तव ने बताया कि सोशल मीडिया से उन्हें बैंक घोटाले के बारे में जानकारी लगी इसके बाद टीवी चैनलों पर भी खबर देखी। बैंक में भारी भीड़ होने के कारण उन्होंने नेट बैकिंग से जमा राशि ट्रांसफर कर नरै 

केंद्र सरकार के नए कानून से डर

नरेंद्र मोदी सरकार के फाइनेंशियल रेज़्यूलेशन एंड डिपोज़िट इंन्श्योरेंस बिल के बाद इस तरह की दहशत सभी बैंक खाताधारकों में है। बताया गया है कि इस नियम के अनुसार बैंक में जमा रकम का केवल 1 लाख रुपए ही सुरक्षित है। दीवालिया होने की स्थिति में इसके अलावा जितनी भी राशि आपके खाते में है, वो डूब सकती है। आप उसे वापस मांगने के हकदार नहीं होंगे। कुछ खबरें इस तरह की भी आईं कि नए कानून के तहत बैंक को यदि घाटा होता है तो वो उसकी भरपाई सभी खाताधारकों की जमा रकम का एक हिस्सा जब्त करके उस घाटे की भरपाई कर लेगा। सवाल यह है कि पंजाब नेशनल बैंक के मामले में क्या ऐसा ही होने वाला है। सरकार और बैंक प्रबंधन की ओर से खाताधारकों को कोई लिखित आश्वासन नहीं दिया गया है। 



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->