HIGH TECH RSS: अब MOBILE APP से होगा संघ दक्ष | NATIONAL NEWS

25 February 2018

नई दिल्ली। टेक्नॉलजी के इस दौर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) भी पीछे नहीं रहना चाहता है। इस कवायद के तहत संघ न केवल अपने सेवा कार्यों की जानकारी जन-जन तक पहुंचाएगा, बल्कि 'E-SHAKHA’ और ‘IT MILAN’ कार्यक्रमों के जरिये भी नई पीढ़ी में पैठ बनाने की कोशिश करेगा। आरएसएस के एक वरिष्ठ प्रचारक ने बताया कि आरएसएस ‘GATHA’ नामक एक MOBILE APP की शुरूआत करने जा रहा है और उम्मीद है कि इसे दो महीने में लॉन्च किया जा सकेगा। हाल ही में, जयपुर में संघ की अखिल भारतीय सेवा समन्वय की बैठक में इसका खाका तैयार किया गया था। ‘गाथा’ ऐप के माध्यम से संघ अपने संगठन, इतिहास के साथ ही पास में लगने वाली शाखा की जानकारी प्रदान करेगा। इस पर अपलोड किए गए वीडियो के माध्यम से शाखा कार्यक्रमों और गतिविधियों को पेश किया जा सकेगा। 

क्या है JOIN RSS? 
आरएसएस के वरिष्ठ प्रचारक राजीव तुली ने बताया कि संघ ने ‘जॉइन आरएसएस’ पहल शुरू की है जो एक ऑनलाइन कार्यक्रम है। इसके तहत आभासी दुनिया में रहने वाले लोगों के लिए ‘वास्तविक शाखा’ का आयोजन किया जा रहा है। यह पहल खास तौर पर IT, BPO समेत आईसीटी क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए है। संघ यह पहल बेंगलुरु, हैदराबाद, मुम्बई, तिरुवनंतपुरम जैसे सूचना प्रौद्योगिकी केंद्रों में आईटी पेशेवरों और युवाओं को जोड़ने के उद्देश्य से कर रहा है। 

संघ के एक अन्य पदाधिकारी ने बताया कि आईटी क्षेत्र के ऐसे लोग जो खुद शाखाओं में हिस्सा लेने नहीं जा पाते हैं, वे इंटरनेट के माध्यम से हमसे जुड़ सकते हैं। किसी संगठन से हमेशा भौतिक रूप से जुड़ना जरूरी नहीं है। अमेरिका, मॉरीशस, ब्रिटेन समेत 39 देशों में संघ की मौजूदगी है। फिनलैंड, केन्या जैसे देशों में लोग ‘ई-शाखा’ के माध्यम से जुड़ रहे हैं। 

युवाओं को जोड़ने पर जोर 
उन्होंने बताया कि देश में भी युवाओं को जोड़ने के लिए ‘ई-शाखा’ पहल पर काम किया जा रहा है। आरएसएस ने पिछले कुछ समय में सॉफ्टवेयर क्षेत्र से जुड़े लोगों का नेटवर्क तैयार किया है। ऐसे युवाओं के लिए ‘आईटी मिलन’ कार्यक्रम आयोजित कर रहा है। संघ ने युवाओं को बड़े पैमाने पर लोगों को संगठन से जोड़ने के लिए 3 साल का एक खाका तैयार किया है। इसमें 15 वर्ष से कम आयु के तरुणों को नियमित शाखा से जोड़ने और 15 वर्ष से अधिक आयु के किशोरों के लिए साप्ताहिक मिलन कार्यक्रम की पहल को तत्परता से आगे बढ़ाया जाएगा। 

एक वरिष्ठ प्रचारक ने बताया कि ‘जॉइन आरएसएस’ के माध्यम से जुड़ने वाले युवाओं की संख्या में 2015 की तुलना में 2016 में 48 प्रतिशत और 2017 में 52 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। ये सभी आंकड़े जनवरी से जून तक के हैं, जिनमें 20 से 35 आयु वर्ग के युवकों की संख्या अधिक है। आरएसएस ने देशभर में अपनी शाखाओं के बारे में आंकड़ों के माध्यम से जोर दिया कि पिछले वर्षों में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्य, शाखाओं की संख्या और युवाओं के सहयोग में लगातार वृद्धि हुई है। 

बढ़ रही है शाखाओं की संख्या 
आरएसएस के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले वर्ष संघ की शाखा के स्थानों की संख्या में 550 की वृद्धि हुई है। वर्तमान में 34000 से अधिक स्थानों पर प्रतिदिन शाखा और 15000 से अधिक स्थानों पर साप्ताहिक मिलन संचालित हो रहे हैं। यानी करीब 49,493 स्थानों पर शाखा और मिलन के माध्यम से समाज में संघ का कार्य चल रहा है। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts