इस “भद्दे-युद्ध” को रोकिये | EDITORIAL

15 January 2018

राकेश दुबे@प्रतिदिन। मालूम नहीं पक्ष और प्रतिपक्ष का यह रवैया कहाँ जाकर रुकेगा? राहुल गाँधी के कहने के बावजूद कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री की निम्न स्तरीय आलोचना SOCIAL MEDIA पर हो रही है। PM MODI ने प्रोटोकॉल तोड़कर नेतन्याहू को गले लगाकर गर्मजोशी से स्वागत किया तो दुनिया के अलग-अलग नेताओं से मिलने को लेकर कांग्रेस ने एक विवादित VIDEO ट्वीट किया है। इस TWEET में विभिन्न नेताओं से PM NARENDRA MODI के गले मिलने को अलग-अलग नाम दिया गया है, जैसे एक तरीके को टाइटेनिक हग (TITANIC HUG) नाम दिया है। इतना ही नहीं कांग्रेस ने इसे हगप्लेमैसी नाम दिया है। 

वीडियो में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी विदेशी नेताओं से मिलते हुए असहज रहते हैं। इसमें अलग-अलग तरह के हग्स को लेकर अलग-अलग मजाक कर किया गया है। इस वीडियो में जापान के पीएम शिंजो आबे के साथ पीएम के हग को 'तुम्हे जाने नहीं दूंगा' हग, मैक्सिको के पीएम के साथ पीएम के हग को 'लेट मी लव यू' हग, फ्रेंच राष्ट्रपति मैक्रों के साथ पीएम के हग को 'ब्रोमांस' और डोनाल्ड ट्रंप के साथ पीएम के हग को 'बस बहुत हो गया' हग नाम दिया है। सवाल यह है कि क्या ये उचित है ? और इसकी सीमा कहाँ तक है ?

कांग्रेस के इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी  ने कहा कि किसी को भी देश का प्रधानमंत्री का इस तरह अपमान नहीं करना चाहिए। कांग्रेस को इसके लिए माफी मांगना चाहिए। पिछले साल अक्टूबर में खुद राहुल गांधी ने ट्वीट किया था, "मोदी जी जल्दी कीजिए, लगता है कि ट्रंप को आपके हग की दरकार है। चुनावों के दौरान तो यह छींटाकशी वो रूप ले लेती है,कि मणिशंकर  अय्यर जैसे मामले होते है।

कर्नाटक विधानसभा चुनावों के समीप आते ही भाजपा और कांग्रेस में आरोप-प्रत्‍यारोप का दौर भी शुरू हो चुका है। दोनों ओर से लगातार एक दूसरे पर जुबानी हमले बोले जा रहे हैं। उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के कर्नाटक दौरे के बाद से यह प्रक्रिया और तेज हो गई है। योगी ने राज्‍य के मुख्‍यमंत्री सिद्दारमैया की कड़ी आलोचना की थी। इसके जवाब में कांग्रेस ने एक वीडियो बनाकर उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री को जवाब दिया था। जिस पर भाजपा ने कांग्रेस को उसी की भाषा में वीडियो बनाकर जवाब दिया है। कर्नाटक में विपक्ष की भूमिका निभाने वली भाजपा ने कांग्रेस सरकार पर हिंदुओं की हत्‍या कराने और किसानों को रुलाने तक का आरोप लगाया है। इसमें मुख्‍यमंत्री सिद्दारमैया के साथ कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी की भी आलोचना की गई है।यह सब क्या है ? इसे अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता से जोडकर देखना तो उन लोगों का अपमान है जो इस माध्यम से सही और सटीक बात कहते है। यह सब बंद होना चाहिए, वास्तव में, दिखावटी प्रतिबन्ध तो खुद मजाक सा लगता है।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts