सिख धर्म का प्रचार करने वाली संस्था के प्रधान का डर्टी वीडियो वायरल | NATIONAL NEWS

Wednesday, December 27, 2017

अमृतसर। सिख समुदाय की धर्म एवं शिक्षा का प्रचार करने वाली संस्था चीफ खालसा दीवान (सीकेडी) के प्रधान चरनजीत सिंह चड्ढा की एक महिला के साथ आपत्तिजनक वीडियो सामने आई है। वैसे ये वीडियो 6 महीने पुरानी है, लेकिन मंगलवार को सार्वजनिक हो गई। फिलहाल उनके विरोधी और दूसरे संगठनों के लोगों की नाराजगी देखते हुए बुधवार को चीफ खालसा दीवान की मैनेजमेंट कमेटी ने चरनजीत सिंह चड्ढा को प्रधान के पद से हटाया दिया है। अब धनराज सिंह को कार्यकारी प्रधान बनाया गया है।

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व सेक्रेटरी मनदीप सिंह मन्ना का कहना है, वीडियो चड्‌ढा के अपने ही एक संस्थान के सीसीटीवी में कैद हुई है। स्क्रीन पर तारीख 20 जून 2017 और सीएमडी ऑफिस लिखा हुआ दिख रहा है। मन्ना ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह से शिकायत कर उन्हें तलब कर पंथ से निष्कासित करने की मांग की थी। उन्होंने पुलिस कमिश्नर, डीसीपी को भी लिखित शिकायत दे चड्ढा पर केस दर्ज करने की मांग की है। उन्होंने कहा, चीफ खालसा दीवान सिखों की धर्म और शिक्षा का प्रचार करने वाली संस्था है।

इन अहम पदों पर भी हैं चड्ढा
चरनजीत सिंह चड्ढा इस समय चीफ खालसा दीवान चैरिटेबल सोसायटी के प्रधान हैं। इसके अलावा खालसा कॉलेज गवर्निंग कौंसल के उप प्रधान, जीएनडीयू के सिंडीकेट सदस्य, पंजाब लॉन टेनिस एसो. के जनरल सेक्रेटरी, पंचशील हाउसिंग बिल्डिंग सोसायटी के प्रधान, पंजाब एंड हरियाणा फाइनांस कंपनी एसो. जालंधर की कार्यकारिणी के सदस्य और चड्‌ढा चैरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन हैं। होटल कारोबारी भी हैं। देश विदेश में पहचान तो रखते ही हैं।

इधर, चरनजीत सिंह चड्ढा ने कहा, एक साजिश के तहत विरोधियों और कुछ शरारती लोगों ने उनके खिलाफ सोशल मीडिया पर जाली वीडियो वायरल की है। ताकि मुझे ब्लैकमेल कर पैसे वसूले जाएं। जालंधर ऑफिस में 20 सितंबर 2017 को मुझे धमकियां भी दी गईं, जिनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई थी। पुलिस ने चार आरोपी पकड़े थे।

मंगलवार सुबह मुख्य साजिशकर्ता गुरसेवक सिंह को पकड़ा तो दूसरी तरफ झूठी वीडियो वायरल कर दी, क्योंकि ये लोग जानते थे कि उनका भेद भी खुल जाएगा। उन्होंने फिर कहा, वीडियो पूरी तरह से जाली है और मेरे अक्स को खराब करने के लिए वायरल की गई है, क्योंकि मैंने पैसे देने से इंकार कर दिया था।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week