अस्त हुए शनिदेव: पढ़िए किसे मिलेगी राहत, कौन परेशान होगा | JYOTISH

Thursday, December 7, 2017

सूर्यपुत्र शनिदेव धनु राशि मे आज से 7 जनवरी तक अस्त हो गये है,शनिदेव इस समय मार्गी अवस्था मे है। शनिदेव की चाल परिवर्तन से विश्वव्यवस्था मे आमूलचूल परिवर्तन आता है। किसी ग्रह के उदय और अस्त होने से उसी तरह फर्क पड़ता है जैसे किसी व्यक्ति का सामने रहने और छुपे रहने से। जब कोई ग्रह अस्त होता है तो उससे जुड़े काम मे रूकावटे आना प्रारम्भ हो जाती हैं। शनिदेव न्याय, कर्मचारी, मजदूर सभी तरह के निर्माण का कारक होते है। शनिदेव के अस्त होने से उपरोक्त क्षेत्र मे काफी उथलपुथल देखने को मिलेगी। आइये देखते है शनिदेव के अस्त होने से विश्वस्तर पर तथा सभी राशियों को क्या परिणाम देखने को मिलेंगे।

आर्थिक क्षेत्र(वित्तीय) मे रुकावटों का योग। अरब देशों के आपसी मतभेद उजागर होंगे। अमेरिका और उत्तर कोरिया मे समन्वय की प्रक्रिया प्रारम्भ होगी।

आपकी राशि पर क्या असर पड़ेगा
मेष-राज्यपक्ष के कार्यों मे रुकावटों का योग,आर्थिक क्षेत्र मे विशेष प्रयास करने होंगे।
वृषभ-नवीन कार्यों को टाले, भवन वाहन आदि के कार्यों मे दिक्कतों का योग।
मिथुन-व्यापारिक तथा पारिवारिक कार्यों को संयमपूर्वक करें,विशेष प्रयासों से ही सफलता मिलेगी।
कर्क-शुभ समय,दिक्कते समाप्त होगी,राहत मिलेगी।
सिंह -रोग,ऋण,शत्रु पस्त होंगे,पुरानी समस्याओं का निराकरण प्राप्त होगा।
कन्या-शिक्षा,संतान सम्बंधी कार्यों मे सफलता का योग,विवादित कार्यों मे सफलता प्राप्त होगी।

तुला-बाहरी क्षेत्र मे यात्रा का योग, भाग्यवर्धक सफलता का योग।
वृश्चिक-आर्थिक कार्यों मे सामान्य रूकावटों के पश्चात सफलता का योग,धन योग प्रबल करने के लिये भागदौड़ करें।
धनु-शुभ समय,व्यर्थ की भागदौड़ से राहत,तनाव मे कमी होगी।
मकर-स्वास्थय की ओर ध्यान दे,व्यर्थ के खर्च से बचें,रोग,ऋण शत्रु से राहत।
कुम्भ-आमदनी के स्त्रोत लाभ देंगे,व्यापारिक तथा आर्थिक कार्यों मे लाभ का योग।
मीन-कर्मक्षेत्र मे सामान्य कार्यों का योग,आर्थिक योग उज्ज्वल।
*प.चन्द्रशेखर नेमा"हिमांशु"
9893280184,7000460931

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week

 
Copyright © 2015 Bhopal Samachar
Distributed By My Blogger Themes | Design By Herdiansyah Hamzah