Loading...

UTTAR PRADESH: 'मुलायम' बाप का 'बलवान' बेटे पर हमला

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के दिल में पनप रहे छाले मैनपुरी में आकर फूट गए। यहां एक होटल का उद्घाटन करने आए मुलायम ने अपने कथित बलवान बेटे अखिलेश यादव पर जमकर हमला बोला। उन्होंने खुलकर कहा कि जो अपने बाप का नहीं हो सका, वो किसी और का क्या होगा। बता दें कि यादव परिवार में यह कलह मुलायम सिंह की नई पत्नी के आने के बाद शुरू हुई थी जो लगातार बढ़ती ही जा रही है। 

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे मुलायम सिंह ने कहा कि कन्नौज में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक बयान का उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में बड़ा असर हो गया। नरेंद्र मोदी ने कहा था कि जो बेटा अपने बाप का नहीं हो सकता है, वह आपका क्या होगा। अखिलेश यादव को लेकर आज मुलायम सिंह यादव ने कहा कि यह बात सही है। जो अपने बाप का नही हो सकता वो किसी का नही हो सकता। मुलायम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कन्नौज की जनसभा में कहा कि जो बाप का नहीं हुआ वह किसी और का क्या होगा। इसका जनता पर असर हुआ और हम चुनाव हार गए।

उन्होंने अखिलेश यादव पर राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद को लेकर बड़ा हमला कर दिया। मुलायम सिंह यादव ने कहा कि जो अपने बाप का नही हो सकता है, वो किसी का नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि कोई बाप अपने बेटे को मुख्यमंत्री नहीं बनाता, लेकिन मैंने उसे मुख्यमंत्री बनाया।उन्होंने कहा कि कोई बाप अपने रहते अपने बेटे को मुख्यमंत्री नही बनता। मगर मैंने अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाया। इसके बाद भी मुझे बड़ा अपमान सहना पड़ा है। उन्होंने कहा कि मेरी जिंदगी ये मेरा सबसे बड़ा अपमान था। अखिलेश ने अपने ही चाचा को मंत्री पद से हटा दिया था। कहा कि अखिलेश के पास बुद्धि है पर वोट नहीं। अखिलेश ने कांग्रेस से गठबंधन किया, जिसने मुझ पर तीन बार जानलेवा हमला करवाया। मैं अब अखिलेश के भरोसे नहीं जनता के भरोसे पर रहूंगा।

मुलायम ने आगे कहा कि जितना मेरा अपमान अब हुआ, पहले कभी नहीं हुआ। अपनों ने ऐसा किया इसलिए कहने किससे जाते। दो लोगों ने मेरा अपमान किया। वो कौन हैं ये सब जानते हैं। मैं जनता की भावनाओं को ध्यान में रख फैसला करूंगा। पूरे भाषण में मुलायम ने चार बार अपमान की बात दोहराई।

मुलायम ने कहा शिवपाल इतना अच्छा काम करते थे। अखिलेश ने उन्हें मंत्रिमंडल से निकाल दिया। जो नरेंद्र मोदी और अन्य नेता कह रहे हैं जो अपने बाप का नहीं हुआ वो किसी का नहीं हो सकता। ये कहने का मौका मेरे अपनों ने ही दिया। मुलायम ने कहा कि अखिलेश यादव ने अपने उस चाचा को ही मंत्री पद से हटा दिया था, जिसमें उसको जीवन की सही राह दिखाई। उन्होंने कहा कि मेरी जिंदगी के साथ ही मेरा सबसे अधिक अपमान हुआ है।