Upcoming IPO - विदेश में सेवाएं दे रहे एजुकेशनल टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म में साझेदारी का मौका

एजुकेशनल टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म बनाना और उसे संचालित करना काफी मुश्किल और महंगा काम है परंतु यदि आप इस बिजनेस को समझते हैं और इसका फायदा उठाना चाहते हैं तो एक अवसर उपस्थित हुआ है। पिछले 3 साल में घाटे से फायदे में और पिछले 6 महीने में प्रॉफिट से डबल प्रॉफिट में आ गई कंपनी का आईपीओ आने वाला है। कंपनी के प्रमोटर्स का मानना है कि अब उन्हें इस बिजनेस में फायदा कमाना आ गया है और उनका लक्ष्य भारत के बाहर कई देशों में अपनी सेवाएं उपलब्ध कराना है। आप भी इस कंपनी का आईपीओ सब्सक्राइब करके कंपनी में साझेदार बन सकते हैं। 

About Addictive Learning Technology Limited in Hindi

सितंबर 2017 में स्थापित हुई एडिक्टिव लर्निंग टेक्नोलॉजी लिमिटेड एक एजुकेशनल टेक्नोलॉजी प्लेटफॉर्म है। यहां पर सीनियर, एक्सपीरियंस होल्डर और कभी-कभी युवा फ्रेशर प्रोफेशनल्स के लिए करियर सर्विसेज ओर स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम संचालित किए जाते हैं। कंपनी के तीन ब्रैंड नेम (LawSikho, Skill Arbitrage, and Dataisgood) सबसे ज्यादा फेमस हैं। यह कंपनी वकीलों को अंतरराष्ट्रीय बार परीक्षाओं की तैयारी भी करवाती है। यह कंपनी राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के तहत मान्यता प्राप्त पाठ्यक्रमों का संचालन भी करती है। कंपनी के प्रमोटर्स Mr Ramanuj Mukherjee and Mr Abhyudaya Sunil Agarwal हैं। 

Addictive Learning Technology Limited Financial Information

  • कंपनी की संपत्ति 65 लाख से बढ़कर 9 करोड़ हो गई है। 
  • कंपनी का रेवेन्यू लगभग 7 करोड़ से बढ़कर 33 करोड़ हो गया है। 
  • नेट वर्थ - 2 लाख से 20 करोड़ हो गई है। 
  • Reserves and Surplus - लगभग 2 लाख नेगेटिव से लगभग 2 करोड़ पॉजिटिव। 
  • कंपनी पर बैंक लोन और बाजार की उधारी लगभग 16 करोड रुपए है। 
  • कंपनी का प्रॉफिट आफ्टर टैक्स नेगेटिव 54000 से बढ़कर लगभग ढाई करोड़ हो गया है। 
उपरोक्त सभी आंकड़े फाइनेंशियल ईयर क्लोजिंग डेट 31 मार्च 2021 और 31 मार्च 2023 के हैं। सरलता से समझने के लिए लगभग प्रस्तुत किए गए हैं। कंपनी का दावा है कि पिछले 1 साल में उसका रिवेन्यू 80% से अधिक और प्रॉफिट आफ्टर टैक्स लगभग 604% बढ़ गया है। 

Addictive Learning Technology Limited IPO (Lawsikho IPO) Detail

कंपनी की तरफ से अभी विस्तृत जानकारी घोषित नहीं की गई है। केवल इतना बताया गया है कि कंपनी के लगभग 43 लाख शेयर्स, इस आईपीओ के जरिए निवेशकों में वितरित किए जाएंगे। कंपनी के शेयर की फेस वैल्यू ₹10 है। इस आईपीओ से पहले प्रमोटर्स की शेयर होल्डिंग 92.27% थी जो आईपीओ के बाद 67.27 प्रतिशत रह जाएगी। यानी प्रमोटर्स इस आईपीओ के माध्यम से 30% शेयर, स्टॉक मार्केट में निवेशकों के बीच वितरित कर देंगे। 

कुल मिलाकर कंपनी छोटी है लेकिन प्रमोटर्स के सपने बड़े हैं। कंपनी के प्रमोटर्स को घाटे की स्थिति में सरवाइव करना आता है और दूसरी तरफ प्रॉफिट को कई गुना कैसे बढ़ाया जाए, इस बात पर भी फोकस किया जा रहा है। अब देखना यह है कि ग्रे मार्केट, इस कंपनी के बिजनेस मॉडल को समझता है या नहीं और यदि समझ लेता है तो कितना प्रीमियम देगा।

डिस्क्लेमर:- कृपया इन्वेस्टमेंट का डिसीजन बनाने से पहले अपने फाइनेंशियल एडवाइजर से सलाह मशवरा जरूर करें एवं हमेशा ध्यान रखें कि स्टॉक मार्केट में जब आप इन्वेस्ट करते हैं तो उसका सारा जोखिम हमेशा सिर्फ आपका होता है। 

✔ व्हाट्सएप में प्रतिदिन बिजनेस आइडियाज एवं बिजनेस न्यूज़ प्राप्त करने के लिए कृपया यहां क्लिक करके व्हाट्सएप कम्युनिटी ज्वाइन करें। ✔ पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। ✔ यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !