भोपाल पुलिस को 27 शिक्षकों की तलाश, DPI ने समस्त DEO को ढूंढने के लिए कहा - MP NEWS

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल की पुलिस को विभिन्न जिलों में पदस्थ 27 शिक्षकों की तलाश है। श्री केके द्विवेदी संचालक लोक शिक्षण संचालनालय, मध्य प्रदेश भोपाल द्वारा समस्त जिलाधिकारी को पत्र लिखकर निर्देशित किया है कि वह अपने अधिकार क्षेत्र में तलाश करें और यदि कोई शिक्षक उनके यहां पदस्थ है तो इसकी सूचना भोपाल पुलिस और लोक शिक्षण संचालनालय को दें। 

शिक्षकों की लिस्ट जिनकी भोपाल पुलिस को तलाश है 

(1) आनंद मिश्रा संगठन प्रमुख छतरपुर 
(2) भूतेश चंद्रा खरगौन 
(3) अरुण विबाल इंदौर 
(4) अमित गौतम सागर 
(5) बृजेश नामदेव रीवा 
(6) सुनील सायलवाल होशंगाबाद 
(7) योगेन्द्र पाण्डेय, रीवा 
(8) बालाराम लोधी टीकमगढ 
(9) उषा जागीरदार इंदौर 
(10) उमा जादौन ग्वालियर 
(11) सुभाष मालवीय उज्जैन 
(12) नवीन दुवे नरसिंहपुर 
(13) राजकिशोर कुर्मी सागर 
(14) सोनाली विश्वकर्मा पति चंन्द्रकांत विश्वकर्मा निवासी बडी माता मंदिर के पीछे छिंदवाडा 
(15) सोमवती प्रजापति पति राकेश प्रजापति निवासी दतिया 
(16)) संगीता गोडगे निवासी सागर 
(19) ह्यलता बर्मा निवासी सतना 
(20) राधा शर्मा पति सुमित शर्मा निवासी इंदौर 
(21) बबीता शर्मा पति बबलू शर्मा निवासी भोपाल 
(22) अरूण कुमार इंदौर 
(23) भूपेश सिंह पता रावेश सिंह उम्र 39 साल निवासी इंद्रा नगर इंदौर 
(24) पूजा चौहान निवासी इंदौर 
(25) आलोक सिंह पिता बलबंत सिंह निवासी भोपाल 
(26) सुनील कुमार पिता कामता प्रसाद निवासी होशंगाबाद 
(27) राजेश बर्मा पचौर 

शिक्षकों ने क्या अपराध किया है

कार्यालय थाना प्रभारी थाना हबीबगंज भोपाल द्वारा बताया गया है कि उपरोक्त सभी के खिलाफ अपराध क्रमांक 570/2021, आईपीसी की धारा 341,147,269,188 के तहत मामला दर्ज किया गया है। दिनांक 18/08/21 को बीजेपी कार्यालय के पास करीबन 300-400 महिला व 1500 चयनित शिक्षकों द्वारा अपनी पदस्थापना आदेश की मांग को लेकर एक राय होकर सार्वजनिक मार्ग बाधित किया एवं उपेक्षापूर्ण कार्य किया जिससे जीवन के लिये संकटपूर्ण रोग का संक्रमण फैलना संभव था। प्रदर्शन वाले दिन श्रीमान जिला दंडाधिकारी भोपाल द्वारा कोरोन महामारी को देखते हुये धरना प्रदर्शन एवं जुलूस रैली के आयोजन पर प्रतिबंध लगाया गया था। बिना अनुमति प्राप्त किये अवैध रूप से बीजेपी कार्यालय के सामने एकत्रित होकर धरना प्रदर्शन किया गया। पुलिस ने लोक शिक्षण संचालनालय को बताया है कि, उपरोक्त में से कोई भी घटना वाले दिन के बाद से लेकर अब तक पुलिस के समक्ष प्रस्तुत नहीं हुआ है। 


⇒ पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें  ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें। ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !