ओलावृष्टि के बाद क्या करें, किसानों के लिए मौसम वैज्ञानिकों की एडवाइजरी - what to do after hailstorm

मध्य प्रदेश राज्य के कई इलाकों में ओलावृष्टि हुई है और मौसम विभाग ने आने वाले 48 घंटे तक कई इलाकों में आंधी बारिश और ओलावृष्टि का अलर्ट जारी किया है। इसी के साथ वैज्ञानिकों ने किसानों के लिए एडवाइजरी भी जारी की है। जिन इलाकों में ओलावृष्टि हो गई है वहां फसलों को बचाने के लिए क्या करें।

ओला पीड़ित फसलों को बचाने के लिए क्या करें

पौधों को हुए नुकसान का आकलन करें और अनुमान लगाएं कि हम उपायों के लिए कितनी जल्दी प्रतिक्रिया दे सकते हैं। साइट्रस उत्पादकों को तुरंत निम्नलिखित कदम उठाने की सलाह दी जाती हैं। पेड़ों को अच्छी तरह से भिगोने के लिए कॉपर ऑक्सी क्लोराइड / ब्लू कॉपर (3 ग्राम प्रति लीटर पानी) या बोर्डो मिश्रण (1%) लगाएं (प्रति बड़े पेड़ लगभग 10-15 लीटर घोल)। यदि तने और शाखाओं पर चोटें बड़ी हैं तो बोडों पेस्ट तैयार करें और चोटों पर लगाएं। हल्के या मध्यम नुकसान के मामले में स्प्रे और पोषक तत्वों के प्रयोग से कुछ सुधार किया जा सकता है। सब्जी की फसल में सभी प्रभावित पौधों को हटाकर नष्ट कर दें। मान्यता प्राप्त सब्जी नर्सरी से नए पौधे रोपें। मिट्टी की उर्वरता में सुधार के लिए अनुशंसित मात्रा में जैविक खाद डालें। जहां भी संभव हो ट्राइकोडर्मा और स्यूडोमोनास के साथ जैविक खाद को एकीकृत करें ताकि अंकुरण चरण के दौरान बीमारियों पर काबू पाया जा सके। छिड़काव गतिविधियों केवल वर्षा न होने वाले दिनों में ही की जानी चाहिए।

मौसम विभाग का अलर्ट जारी हो गया है, अब क्या करें

वे परिपक्व फसलों की जल्द से जल्द कटाई करें और उन्हें सुरक्षित स्थान पर जमा करें। केले के गुच्छों को बांस की डंडियों या पॉलीप्रोपाइलीन की डंडियों से सहारा दें और नई रोपी गई सब्जियों/लता वाली सब्जियों को सहारा दें। बागवानी की फसलों में यांत्रिक क्षति को रोकने के लिए हैलनेट का उपयोग करें। सिंचाई और किसी भी प्रकार के रासायनिक छिड़काव से बचें। 

 पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें  ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें। ✔ यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है। 

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !