MP NEWS- कांग्रेस में दावेदार के नाम पर आपत्ति है तो क्या करें, दिग्विजय सिंह ने बताया

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 के लिए भारतीय जनता पार्टी के अधिकृत प्रत्याशियों की सूची जारी हो चुकी है और उनका विरोध भी हो रहा है। कांग्रेस पार्टी ने कोई रिश्तेदारी नहीं की है लेकिन दावेदारों का विरोध हो रहा है। इस बीच मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के नेता नंबर दो श्री दिग्विजय सिंह ने बताया कि यदि किसी को दावेदार के नाम पर कोई आपत्ति है तो उसे क्या करना चाहिए। 

मध्य प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के दावेदारों और प्रत्याशियों के नाम पर आपत्ती अभ्यावेदन की विधि

राजधानी भोपाल में श्रीदेवी सिंह के घर पर ग्वालियर जिले की डबरा विधानसभा सीट के कांग्रेस कार्यकर्ता आए थे। उनका कहना था कि इस बार के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के विधायक श्री सुरेश राज को टिकट मत दीजिए बल्कि किसी दूसरे व्यक्ति को डबरा विधानसभा से कांग्रेस पार्टी का प्रत्याशी घोषित कीजिए। प्रदर्शनकारी कांग्रेस कार्यकर्ताओं के पास अपने तर्क भी थे। श्री दिग्विजय सिंह ने उन्हें बताया कि, कांग्रेस पार्टी में पहली बार प्रत्याशी चयन के लिए एक अलग प्रकार की प्रक्रिया का पालन किया जा रहा है। श्री कमलनाथ के पास प्रत्याशी चयन का सर्वाधिक का सुरक्षित है। यदि किसी को आपत्ति है तो वह अपनी आपत्ति को लिखित में लेकर जाए और कमलनाथ जी के घर में बने उनके ऑफिस में अपनी आपत्ति जमा करके पावती प्राप्त करें। 

दिग्विजय सिंह गांव-गांव गए थे, अब गांव-गांव से लोग दिग्विजय सिंह के यहां आ रहे हैं

कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने, गुटबाजी छोड़कर पार्टी के लिए काम करने का संदेश लेकर दिग्विजय सिंह मध्य प्रदेश के गांव-गांव गए थे। उन्होंने जमीन ही कार्यकर्ताओं से बात की और वचन दिया है कि, पार्टी में उनके हितों की रक्षा की जाएगी। दिग्विजय सिंह गारंटी है। अब गांव-गांव से कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता दिग्विजय सिंह के घर आ रहे हैं। कोई दल बदलू के खिलाफ, कोई पार्टी विरोधी नेता के खिलाफ, कोई दागी विधायक के खिलाफ और कोई गद्दारों के खिलाफ अपनी बात रख रहा है। 

जिताऊ प्रत्याशी के नाम पर कांग्रेस का कचरा नहीं होना चाहिए

कार्यकर्ताओं का कहना है कि जिताऊ प्रत्याशी के चयन के नाम पर कांग्रेस का कचरा नहीं होना चाहिए, लेकिन दिग्विजय सिंह के पास अब कोई गारंटी नहीं है। वह कार्यकर्ताओं को समझ रहे हैं कि जिसे भी आपत्ति हो कमलनाथ से बात करें। इसका एक अर्थ यह भी हुआ कि कार्यकर्ताओं को कमलनाथ के लिए एकजुट करने का काम दिग्विजय सिंह ने किया परंतु कमलनाथ को कांग्रेस पार्टी के जमीन कार्यकर्ताओं के लिए समर्पित करने का काम दिग्विजय सिंह नहीं करेंगे। 

सूत्रों का कहना है कि प्रदेश प्रभारी श्री रणदीप सुरजेवाला की नियुक्ति इस बात की चिंता करने के लिए की गई है कि मध्य प्रदेश में चुनाव के दौरान कांग्रेस पार्टी का अस्तित्व और पहचान सुरक्षित रहनी चाहिए। पार्टी किसी भी स्थिति में किसी एक नेता के नाम की प्राइवेट लिमिटेड नहीं बनना चाहिए।

 पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें  ✔ यहां क्लिक करके व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें। ✔ यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !