MP NEWS- कोई आईपीएस अनूपपुर एसपी बनने तैयार नहीं, खरगोन से जितेंद्र सिंह पवार को भेजा

भोपाल
। अनूपपुर जिले में पुलिस और प्रशासन के बीच चली पॉलिटिक्स के बाद भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी अखिल पटेल को एसपी के पद से हटा दिया गया था। 2 हफ्ते तक कुर्सी खाली रही। अब जितेंद्र सिंह पवार को एसपी बनाकर भेजा गया है। श्री पवार मूल रूप से राज्य पुलिस सेवा के अधिकारी हैं और 10 महीने पहले ही उन्हें आईपीएस अवार्ड हुआ था।

अनूपपुर में पुलिस और प्रशासन के बीच तनावपूर्ण स्थिति

प्रदेश में पुलिस और प्रशासन के बीच कभी तनाव की स्थिति नहीं बनती। कभी-कभी कुछ मुद्दों पर मजबूत हो जाते हैं और ऐसे मुद्दों को अक्सर पेंडिंग कर दिया जाता है। सीधा टकराव और हार जीत नहीं होती लेकिन अनूपपुर में ऐसा हुआ। अखिल पटेल आईपीएस का कलेक्टर के साथ तनाव शुरू हुआ, फिर के खिलाफ कर्मचारी संगठन लामबंद हुए और कमिश्नर ने फ्रंट लाइन पर आकर सपोर्ट किया। कमिश्नर की रिपोर्ट के आधार पर मुख्य सचिव के दखल के बाद अखिल पटेल आईपीएस को अनूपपुर एसपी के पद से हटाने का एकतरफा आदेश जारी हुआ था। 

जो हुआ जैसे हुआ वह भी ठीक था परंतु इसकी जानकारी पत्रकारों को दी गई और इस घटनाक्रम को चर्चा का विषय बनाया गया। कुल मिलाकर प्रशासन ने पुलिस पर जीत का जश्न मनाया। पिछले 2 हफ्ते से तनावपूर्ण स्थिति थी। पुलिस हेडक्वार्टर अनूपपुर में किसी को भेजने के लिए तैयार ही नहीं था। स्थिति शांत होने के बाद जितेंद्र सिंह पवार आईपीएस को अनूपपुर पुलिस अधीक्षक के पद पर आज पदस्थ किया गया है।