GWALIOR NEWS- प्रभारी मंत्री की समीक्षा बैठक का प्रतिवेदन

ग्वालियर
। शहरी क्षेत्र में सड़कों के संधारण, स्ट्रीट लाईट तथा अमृत योजना के तहत जहाँ सड़कें खराब हुई हैं उनको ठीक करने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जाए। इसके साथ ही स्वच्छता अभियान को जन आंदोलन बनाकर शहर को स्वच्छ और सुंदर बनाने की दिशा में भी सार्थक कार्य किया जाए। प्रदेश के जल संसाधन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने मंगलवार को बाल भवन में जिला प्रशासन, नगर निगम, पुलिस प्रशासन और स्मार्ट सिटी के अधिकारियों के साथ बैठक में यह निर्देश दिए। 

बाल भवन में शहर विकास के लिये किए जा रहे कार्यों की समीक्षा बैठक में प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने यह भी कहा है कि जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन और स्मार्ट सिटी आपस में समन्वय स्थापित कर विकास कार्यों को गति प्रदान करें। बैठक में भाजपा जिला अध्यक्ष श्री अभय चौधरी, नगर निगम सभापति श्री मनोज तोमर, कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, सीईओ जिला पंचायत श्री आशीष तिवारी, नगर निगम आयुक्त श्री किशोर कान्याल, एडीएम श्री इच्छित गढ़पाले, सीईओ स्मार्ट सिटी श्रीमती नीतू माथुर, नगर निगम के अपर आयुक्त श्री अतेन्द्र गुर्जर, श्री मुकुल गुप्ता सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने स्मार्ट सिटी की सीईओ को निर्देशित किया है कि स्मार्ट सिटी के माध्यम से सड़क निर्माण का जो कार्य गतिशील है उसे एक माह में पूर्ण करें। इसके साथ ही अन्य जो कार्य किए जा रहे हैं उसको भी समय-सीमा में पूर्ण गुणवत्ता के साथ पूर्ण करें। उन्होंने कहा कि ग्वालियर स्मार्ट सिटी के द्वारा किए जा रहे कार्यों से आम लोगों को भी महसूस होना चाहिए कि वे स्मार्ट सिटी में रह रहे हैं। 

उन्होंने नगर निगम आयुक्त श्री किशोर कान्याल को भी कहा है कि शहर की सड़कों के संधारण का कार्य तेज गति से किया जाए। इसके साथ ही जो नई सड़कें निर्मित की जा रही हैं उनको भी निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण करें। पेंच रिपेयरिंग का कार्य भी तेज गति से किया जाए। जो सड़कें गारंटी पीरियड में हैं उनके संधारण का कार्य ठेकेदारों के माध्यम से शीघ्र कराया जाए। स्ट्रीट लाईट की शिकायतों के निराकरण के लिये प्रभावी सिस्टम बनाने के साथ ही तेज गति से संधारण का कार्य भी किया जाए। आगामी एक माह के अंदर सड़कों के संधारण और स्ट्रीट लाईट की समस्या का निदान हो यह सुनिश्चित किया जाए। 

प्रभारी मंत्री श्री सिलावट ने स्वच्छता अभियान की समीक्षा के दौरान कहा कि शहर में स्वच्छता के प्रति लोगों में जागरूकता आए इसके लिये जन आंदोलन के रूप में स्वच्छता का कार्य किया जाए। समय पर शहर से कचरा एकत्र हो यह भी सुनिश्चित किया जाए। व्यापारियों और नागरिकों को भी शहर को स्वच्छ बनाने में भागीदार बनाया जाए। समझाइश के बाद भी न मानने पर जुर्माने की कार्रवाई भी निगम करे। उन्होंने यह भी कहा कि स्वच्छता के कार्य में अगर संसाधन की कमी है तो भोपाल स्तर पर बैठक आयोजित कर उसका भी निदान कराया जायेगा। 

मटमैले पानी की शिकायत का हो शीघ्र निराकरण 

प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि शहर के कई क्षेत्रों से मटमैला आने की शिकायत मिल रही है, इसका निदान नगर निगम का अमला शीघ्र करे। हर संभव प्रयास कर शहर के नागरिकों को स्वच्छ जल वितरित हो यह सुनिश्चित किया जाए। इसके लिये जल संसाधन विभाग से जो भी मदद की आवश्यकता है वह उपलब्ध कराई जायेगी। 
 उन्होंने यह भी कहा कि पेयजल सप्लाई के समय निगम का मैदानी अमला अनिवार्यत: क्षेत्र में रहे और कहीं से भी मटमैला पानी मिलने की शिकायत मिलती है तो तत्काल पहुँचकर उनकी समस्या का निदान हो यह भी सुनिश्चित किया जाए। 

मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के तहत प्राप्त आवेदनों का हो त्वरित निराकरण 

प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बैठक में मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के तहत की गई कार्रवाई की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि अभियान के तहत जो आवेदन प्राप्त हुए हैं उनका निराकरण भी तीव्र गति से किया जाए। कलेक्टर श्री कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बताया कि अभियान के दौरान कुल एक लाख 31 हजार आवेदन प्राप्त हुए हैं, जिनमें से 90 हजार आवेदन पत्रों का निराकरण किया जा चुका है। इसके साथ ही 15 हजार आवेदन निरस्त हुए हैं। शेष बचे आवेदन पत्रों का निराकरण 15 दिवस में कर लिया जायेगा।  

माफियाओं के विरूद्ध हो सख्त कार्रवाई 

प्रभारी मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बैठक के दौरान कलेक्टर एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से कहा कि जिले में माफियाओं के विरूद्ध सख्त कार्रवाई की जाए। रेत माफिया हो, शराब माफिया हो या खाद्य पदार्थों में मिलावट करने वाले हों, किसी को भी बख्शा नहीं जाए। नशे का अवैध व्यवसाय करने वाले लोगों के विरूद्ध अभियान चलाकर कार्रवाई की जाए।