SARGI KHANE KA SHUBH MUHURAT OR VIDHI- सरगी खाने का शुभ मुहूर्त और विधि

KARWA CHAUTH 2022-
सरगी खाने का शुभ मुहूर्त और विधि से पहले यह जानना जरूरी है कि सरगी होती क्या है और क्यों खाई जाती है यदि जाती है। सरगी एक प्रकार की थाली होती है, जिसमें खाने की कुछ चीजें होती हैं। सरगी की थाली में खाने के अलावा 16 श्रृंगार की समाग्री, ड्रायफ्रूट्स, फल, मिष्ठान आदि होते हैं। सरगी में रखे गए व्यंजनों को ग्रहण करके ही दिनभर निर्जला उपवास रहा जाता है। फिर रात में चांद की पूजा करने के बाद ही व्रत का पारण किया जाता है। करवा चौथ की सरगी सास अपनी बहू को देती है। लेकिन यदि सास न हों तो जेठानी या बहन भी सरगी दे सकती हैं।

SARGI KHANE KA SHUBH MUHURAT- सरगी खाने का शुभ मुहूर्त 

करवा चौथ के दिन प्रातः सूर्योदय से पहले यानी भोर में 4 से 5 बजे के बीच सरगी ग्रहण कर लेना चाहिए। सरगी खाने का शुभ मुहूर्त 13 अक्टूबर को सुबह 4 बजकर 46 मिनट से लेकर सुबह 5 बजकर 36 मिनट तक है

SARGI KHANE KI VIDHI- सरगी खाने की विधि

सरगी खाने के लिए सबसे पहले जल्दी जाग जाएं और स्नान करके साफ कपड़े पहनें।
फिर सास का आशीर्वाद लें और उनके द्वारा दी गई सरगी ग्रहण करें।
सरगी में तेल-मसाले वाली चीजें न खाएं।
सिर्फ सात्विक चीजें ही खाएं वरना व्रत का फल नहीं मिलता है।
सरगी की थाली में आप मिष्ठान्न, फल, दूध, दही जैसी सात्विक चीजें रख सकती है।

karava chauth mein saragee mein kya kya khaate hain? karava chauth mein saragee kaise karate hain? saragee khaane ka sahee samay kya hai? saragee mein kya kya hota haiकरवा चौथ में सरगी में क्या क्या खाते हैं?, करवा चौथ में सरगी कैसे करते हैं?, सरगी खाने का सही समय क्या है?, सरगी में क्या क्या होता है?