BHOPAL NEWS- बोट क्लब पर लिव इन पार्टनर का गला रेता, प्रॉपर्टी डीलर के ऑफिस में जॉब करती थी

भोपाल। 
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक युवती का शव बड़ा तालाब स्थित बोट क्लब के पास मिला।  शनिवार देर रात लिव-इन पार्टनर ने युवती का गला रेत कर हत्या कर दी,श्यामला हिल्स पुलिस ने आसपास के CCTV कैमरे खंगाले, तो आरोपी की बाइक नंबर के आधार पर पहचान हो गई। उसे गिरफ्तार कर लिया गया है।

शुरुआती पूछताछ में आरोपी ने पुलिस को बताया कि 3 महीने से उसके और लिव इन पार्टनर के बीच विवाद चल रहा था। उसे शक था कि युवती का कहीं और अफेयर चल रहा है। युवती उसे टॉर्चर करती थी। उसे उसकी मौसियां बहकाती थीं। मौसियों का कहना है कि आरोपी ने युवती के अश्लील वीडियो बना रखे थे। इनके जरिए ही वह उसे ब्लैकमेल करता रहता था। एक बार तो युवती के बाल भी काट दिए थे।

DCP रियाज इकबाल ने बताया कि 30 साल की इकरा उर्फ रोजी करोंद की हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी में रहती थी। वह एक प्रॉपर्टी डीलर के ऑफिस में जॉब करती थी। मोहसिन खान के साथ डेढ़ साल से लिव इन में रह रही थी। पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तो बेसुध हालत में इकरा जमीन पर पड़ी थी। पुलिस उसे हमीदिया अस्पताल लेकर पहुंची, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। डॉक्टर ने इकरा को मृत घोषित कर दिया।

पुलिस के मुताबिक, शनिवार देर शाम मोहसिन ने इकरा को मिलने बुलाया। वह बात करने के लिए उसे बाइक पर बैठाकर बोट क्लब लेकर पहुंचा। इकरा रात 9 बजे मोहसिन के साथ होटल रंजीत के पास खड़ी होकर बात कर रही थी। करीब 1 घंटे की बातचीत के बीच दोनों के बीच विवाद हुआ। इसी दौरान मोहसिन ने पर्स से चाकू निकाला और इकरा के गले पर बाईं तरफ हमला कर दिया। हमले में इकरा लहूलुहान होकर गिर गई। आरोपी बाइक लेकर मौके से भाग निकला। सूचना मिलते ही श्यामला हिल्स पुलिस मौके पर पहुंची।

पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तो आसपास खून फैला हुआ था। बेसुध इकरा जमीन पर पड़ी थी। पुलिस उसे हमीदिया अस्पताल लेकर पहुंची, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। डॉक्टर ने इकरा को मृत घोषित कर दिया। इलाके में लगे CCTV कैमरे खंगाले तो आरोपी की बाइक के नंबर से उसकी पहचान हुई। पुलिस ने उसके मोबाइल पर कॉल लगाया तो स्विच ऑफ मिला। पुलिस का शक गहरा गया। इसके बाद पुलिस की एक टीम करोंद पहुंची। आरोपी मोहसिन को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने जब उसे गिरफ्तार किया तो वह बड़े आराम से घर के पास ही दुकान पर चाय पीता मिला।

पुलिस ने जब मोहसिन को बताया कि तुमने इकरा की हत्या कर दी है तो वह शॉक्ड रह गया। उसने पुलिस को बताया कि उसे लगा था कि चाकू इकरा के हाथ में लगा है। हड़बड़ाहट में वह वहां से भाग आया था। उसने बताया कि वह ट्रेवल एजेंसी में ड्राइवर है। इकरा मुझे टॉर्चर करती थी। पैसे मांगती थी। वह मुझे छोड़कर चली गई थी।

मोहसिन का दावा है कि शनिवार दोपहर इकरा ने ही उसे पहले फोन लगाया था। कहा था- कहीं घुमाने ले चलो, अच्छा खाना खिला दो। इस पर वह अशोका गार्डन पहुंचा। अशोका गार्डन से उसे बाइक पर बैठाकर हबीबगंज लेकर गया। हबीबगंज में वह अपने ऑफिस चली गई। मैं भी अपना काम करने चला गया। शाम को फिर इकरा ने मुझे फोन कर बुलाया। मैं उसे लिंक रोड-1 होते हुए बड़ा तालाब लेकर पहुंचा। होटल रंजीत के पास पेड़ के नीचे करीब 1 घंटे तक हम दोनों की बात हुई। इसी बीच इकरा मुझे धमकाने लगी कि तुझे न मरने देंगे, न जिंदा रहने देंगे। तड़पा-तड़पाकर मारूंगी। उसकी इस बात पर गुस्सा आ गया। पर्स से चाइनीच चाकू निकालकर उसे मार दिया। वह जैसे ही गिरी, मैं बाइक उठाकर भाग निकला।

इकरा की मौसियों ने बताया कि मोहसिन आपराधिक प्रवृत्ति का है। उसने इकरा को प्यार के जाल में फंसाया, फिर उसका टॉर्चर करने लगा। वह उसकी कमाई से अपना खर्च चलाता था। तीन-चार महीने पहले उसने इकरा के साथ बेरहमी से मारपीट की थी। उसके बाल काट दिए थे। वह इकरा के वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करता था। डेढ़ महीने पहले उसने उसे इतना मारा कि वह उसे छोड़कर हम लोगों के पास आ गई। तब से उससे फोन पर बात तक नहीं करती थी। शनिवार को वह ऑफिस से पेमेंट लेने की बात कहकर घर से निकली थी। इसके बाद पता नहीं मोहसिन उसे कब मिला।