शिवपुरी के प्रभारी मंत्री की पंचायत सचिव से लेकर मुख्य सचिव तक कोई भी क्यों नहीं सुनता- MP NEWS

मध्यप्रदेश में शिवपुरी जिले के प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया जिला प्रशासन एवं पुलिस से इतने परेशान हो गए हैं कि उन्होंने इसके लिए मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें एक निरंकुश शासक बता दिया है। 

मामला क्या है, क्यों भड़के सिसोदिया

पिछले दिनों शिवपुरी जिले में पुलिस अधिकारियों के ट्रांसफर किए गए। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार जिले के अंदर होने वाले ट्रांसफर प्रभारी मंत्री की सहमति के बाद ही किए जा सकते हैं परंतु शिवपुरी में प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया को इसकी जानकारी तक नहीं दी गई। जब उन्होंने इसकी फाइल तलब की दो वह भी नहीं भेजी गई। उन्होंने जिन पुलिस अधिकारियों के लिए मना किया था, उनका भी ट्रांसफर हो गया। इस बात से नाराज होकर उन्होंने 29 अगस्त को कलेक्टर को पत्र लिखा परंतु कलेक्टर ने भी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। 

शिवपुरी के प्रभारी मंत्री की नाराजगी पर कलेक्टर एसपी के बयान

इसी बात से प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया नाराज हो गए हैं। उनका कहना है कि मध्य प्रदेश सरकार की ट्रांसफर पॉलिसी के तहत प्रभारी मंत्री की सहमति के बिना कोई ट्रांसफर नहीं किया जा सकता। शिवपुरी के एसपी राजेश सिंह चंदेल का बयान सामने आया है। उनका कहना है कि कई बार इमरजेंसी में ट्रांसफर करने पड़ते हैं। ट्रांसफर पॉलिसी में क्या लिखा है वह दिखा लेते हैं। कलेक्टर अक्षय कुमार सिंह ने कहा कि प्रभारी मंत्री से बात हो गई है। प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। 

शिवपुरी के प्रभारी मंत्री ने 15 अगस्त को ध्वजारोहण नहीं किया था

अंदर की बात क्या है यह तो सिसोदिया ही जाने परंतु 15 अगस्त 2022 को शिवपुरी के प्रभारी मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने ध्वजारोहण नहीं किया था जबकि शासन द्वारा निर्धारित किया गया था कि वह शिवपुरी के मुख्य समारोह में ध्वजारोहण करेंगे एवं मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन करेंगे। इससे पहले भी श्री सिसोदिया ने एक बार ध्वजारोहण नहीं किया था। वह गुना से ही वापस लौट गए थे। इस बार शिवपुरी आ गए थे। कोई मेडिकल इमरजेंसी नहीं थी फिर भी ध्वजारोहण नहीं किया।

प्रभारी मंत्री की यशोधरा राजे सिंधिया से नहीं बनती 

कहा जाता है कि प्रभारी मंत्री श्री महेंद्र सिंह सिसोदिया और स्थानीय विधायक एवं सीनियर कैबिनेट मिनिस्टर यशोधरा राजे सिंधिया के बीच कुशल व्यवहार नहीं है। शुरुआत में उन्होंने स्थानीय विधायक और स्थानीय भाजपा के नेताओं को पार्टी की नीति के अनुसार महत्व नहीं दिया और स्वयं को शिवपुरी का श्रीमंत घोषित करने की कोशिश की। बताया जा रहा है कि जो कुछ भी हो रहा है वह इसी कारण से हो रहा है। कहते हैं शिवपुरी में तो पंचायत सचिव सिसोदिया की नहीं सुनता।

सिर्फ शिवपुरी ही नहीं गुना के अधिकारी भी सिसोदिया को सम्मान नहीं देते 

बात सिर्फ शिवपुरी की नहीं है बल्कि गुना में भी प्रशासनिक अधिकारी, मंत्री श्री महेंद्र सिंह सिसोदिया को सम्मान नहीं देते। गुरुवार दिनांक 1 सितंबर 2022 को मक्सूदनगढ़ में एक कार्यक्रम का आयोजन था। मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया पहुंचे परंतु प्रोटोकॉल अधिकारी नहीं आए। उन्होंने कलेक्टर से शिकायत की परंतु गुना कलेक्टर ने भी शिवपुरी कलेक्टर की तरह कोई रिप्लाई नहीं किया।