कमलनाथ ने अरुणोदय चौबे को पहले पीड़ित और फिर गद्दार बताया- MP NEWS

मध्यप्रदेश में कांग्रेस पार्टी सत्ता में नहीं है और विधानसभा चुनाव 2023 के बाद कांग्रेस पार्टी के सत्ता में आने की 100% संभावना भी नहीं है लेकिन कमलनाथ से नाराज होकर पार्टी छोड़ने का सिलसिला लगातार जारी है। उनके सबसे खास नेताओं में से एक अरुणोदय चौबे ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया। कमलनाथ का बयान काफी कन्फ्यूजिंग है। उन्होंने पहले चौबे को भाजपा से पीड़ित और फिर कांग्रेस का गद्दार बताया है। 

अरुणोदय चौबे के मामले में कमलनाथ ने क्या कहा

कमलनाथ ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी प्रेशर की पॉलिटिक्स कर रही है। अरुण के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास के गंभीर मामले दर्ज किए गए और उन्हें भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के लिए मजबूर किया गया। फिर कमलनाथ ने बताया कि अरुणोदय चौबे कांग्रेस पार्टी में रहते हुए पार्टी के खिलाफ काम कर रहे थे। पंचायत और नगरीय निकाय के चुनाव में चौबे ने पार्टी से गद्दारी की। इसलिए उन्हें निष्कासित कर दिया गया था। 

कहना क्या चाहते हैं कमलनाथ- चौबे पीड़ित है या गद्दार

कमलनाथ का बयान कमलनाथ को ही सवालों की जद में लाकर खड़ा कर देता है। कमलनाथ ने कहा कि चौबे के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास के झूठे मुकदमे दर्ज करवाए गए। सवाल यह है कि कमलनाथ ने अपनी पार्टी के नेता को बचाने के लिए क्या किया। पिछले पन्ने पलटने पर कहीं दिखाई नहीं देता कि कमलनाथ ने चौबे के खिलाफ दर्ज हुए कथित झूठे मुकदमों का विरोध करने के लिए किसी भी प्रकार का कोई धरना प्रदर्शन किया हो। 

अपने ही बयान की दूसरी लाइन में कमलनाथ कहते हैं कि पंचायत और नगरीय निकाय के चुनाव में अरुणोदय चौबे ने पार्टी से गद्दारी की इसलिए हमने उन्हें निष्कासित कर दिया था। सवाल यह है कि उनके निष्कासन की सूचना सार्वजनिक क्यों नहीं की गई थी। क्या कमलनाथ जी ने चौबे को चुपके से कान में बताया था कि तुम्हें निष्कासित कर दिया है। 

कमलनाथ से नाराज होकर कितने नेताओं ने इस्तीफा दिया

ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं 22 विधायक। 
नेपानगर विधायक सुमित्रा देवी कास्डेकर। 
बड़वाह विधायक सचिन बिरला। 
बड़ामलहरा- प्रद्धुम्न लोधी।
दमोह- राहुल लोधी।
मुरैना जिला अध्यक्ष- राकेश मावई। 
खुरई विधानसभा- अरुणोदय चौबे पूर्व विधायक।
(यह सभी अपने क्षेत्र के प्रभावशाली नेता हैं और इनके साथ इनके समर्थक भी कांग्रेस पार्टी छोड़ कर चले गए) 

इन्होंने भी दिया इस्तीफा
ग्वालियर में महिला कांग्रेस कमेटी की जिला अध्यक्ष रुचि गुप्ता के साथ जिला महिला कांग्रेस कमेटी की जिला उपाध्यक्ष रचना कुशवाह, जिला महामंत्री वर्षा कुशवाह, ब्लॉक अध्यक्ष रानू कुशवाह के साथ अन्य चार ब्लॉकों की ब्लॉक अध्यक्ष, 2 वार्ड अध्यक्षों ने भी इस्तीफे दिया था। लिहाजा, इस्तीफे देने वालों में 5 ब्लॉक अध्यक्ष, 2 वार्ड अध्यक्ष, एक जिला उपाध्यक्ष, एक जिला महामंत्री के नाम अब तक सामने आए हैं।