MP NEWS- कांग्रेस नेता अजय सिंह राहुल के बेटे के तलाक पर हाईकोर्ट की मुहर

जबलपुर
। मध्य प्रदेश के इतिहास के सबसे चर्चित मुख्यमंत्री स्वर्गीय अर्जुन सिंह के पौत्र एवं विंध्य के कांग्रेसी नेता अजय सिंह राहुल के बेटे एवं बॉलीवुड एक्टर अरुणोदय सिंह के तलाक पर हाईकोर्ट की भी मुहर लग गई है। न्यायमूर्ति सुजय पाल व न्यायमूर्ति पीसी गुप्ता की युगलपीठ ने उनकी कनाडियन पत्नी ली एल्टन की याचिका नामंजूर कर दी है। सन 2016 में दोनों की बड़ी धूमधाम से शादी हुई थी।

एक्टर अरुणोदय सिंह की शादी 2019 में टूट गई थी

उल्लेखनीय है कि न्यूफाउंडलैंड, कनाडा निवासी डगलस एल्टन की पुत्री ली एनी एल्टन की ओर से हाई कोर्ट में अपील दायर की गई थी, जिसमें कहा गया था कि 13 दिसम्बर 2016 को विशेष विवाह अधिनियम के तहत अरुणोदय सिंह के साथ भोपाल में विवाह पंजीकृत किया गया। विवाह के बाद वे मुंबई के खार इलाके में रहने लगे। इसी दौरान दोनों के झगड़े होने लगे। इससे तंग आकर 2019 में अरुणोदय ने ली एल्टन ने मिलना बंद कर दिया। 

भोपाल फैमिली कोर्ट ने तलाक का एकतरफा आदेश जारी कर दिया

10 मई, 2019 को भोपाल के फैमिली कोर्ट में ली एल्टन के खिलाफ तलाक का केस दायर कर दिया। ली एल्टन इससे बेखबर थी। इसी दौरान ली एल्टन ने भी अरुणोदय के खिलाफ भरण-पोषण व वैवाहिक संबंधों की पुनर्स्थापना के केस मुंबई की फैमिली कोर्ट में दायर कर दिए। आगे चलकर ली एल्टन को तलाक के केस की जानकारी मिली तो उसने केस को मुंबई स्थानांतरित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी। इसके बावजूद भी 18 दिसम्बर 2016 को ली एल्टन की गैरहाजिरी में फैमिली कोर्ट ने तलाक का एकपक्षीय आदेश सुना दिया।

मात्र 6 महीने में एकतरफा तलाक के आदेश पर सवाल

फैमिली कोर्ट, भोपाल के उक्त आदेश को अपील में चुनौती दी गई। ली एल्टन की ओर से अधिवक्ता आदित्य संघी ने पक्ष रखा। उन्होंने दलील दी कि ली एल्टन की जानकारी के बिना एकतरफा तलाक का आदेश पारित किया गया है, जो अवैध और निरस्त करने योग्य है। उन्होंने छह महीने के अंदर तलाक के मामले का एकतरफा फैसला होने पर भी आश्चर्य व्यक्त किया। 

सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही के बाद फैमिली कोर्ट ने आदेश जारी किया

दूसरी ओर अरुणोदय की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता किशोर श्रीवास्तव ने दलील दी कि ली एल्टन के ई-मेल से अरुणोदय के साथ न रहने की मंशा जाहिर होती है। ली ने सुप्रीम कोर्ट में केस ट्रांसफर करने का आवेदन दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने 14 अक्टूबर 2019 को ली व अरुणोदय को मध्यस्थता के लिए बुलाया। अरुणोदय पहुंचे, लेकिन ली नहीं पहुंची। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने आवेदन निरस्त कर दिया। इसके बाद ही फैमिली कोर्ट ने एकतरफा तलाक का आदेश पारित किया। 

महिला ने कोर्ट नोटिस का जवाब नहीं दिया इसलिए एकतरफा तलाक मंजूर

हाई कोर्ट ने सभी तर्क सुनने के बाद अपील इस टिप्पणी के साथ निरस्त कर दी कि फैमिली कोर्ट द्वारा पर्याप्त अवसर देने के बावजूद ली एल्टन की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया, इसलिए उसके खिलाफ पारित तलाक का एकतरफा आदेश उचित है।