COURT ने किडनैपिंग व रेप की 2:45 बजे सजा सुनाई, 3 बजे सुसाइड कर लिया

नर्मदापुरम।
मध्य प्रदेश के होशंगाबाद जिले में किडनैपिंग और रेप के आरोपी ने सजा सुनने के बाद सुसाइड कर लिया। शुक्रवार को पुलिस कस्टडी में उसे जेल ले जाया जा रहा था। जेल में दाखिल होने से पहले उसने जहर खा लिया। इलाज के दौरान प्राइवेट अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

राजा कहार (24) पुत्र रमेश कहार ने 4 जुलाई 2020 को मोहल्ले की 17 साल की नाबालिग का अपहरण कर दुष्कर्म किया था। राजा कहार जमानत पर था। शुक्रवार को केस की उसकी आखिरी पेशी थी। विशेष न्यायालय में विशेष न्यायाधीश आरती ए शुक्ला ने दोपहर 2.45 बजे 20 साल की सजा सुनाई। पुलिस बल करीब 3 बजे उसे कोर्ट से जेल ले जा रहा था। जेल के मुख्य गेट के पास अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। पुलिसकर्मी उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां से उसे निजी अस्पताल ले गए। देर शाम 7.30 बजे से 8 बजे के बीच इलाज के दौरान राजा ने दम तोड़ दिया।

राजा, नाबालिग लड़की को अगवा कर भोपाल ले गया था। वहां उसके साथ गलत काम किया। पीड़िता ने परिवार के साथ थाना देहात में आरोपी राजा के खिलाफ दुष्कर्म, अपहरण, पॉक्सो एक्ट का केस कराया था। मामले की विवेचना उप निरीक्षक निकिता विल्सन ने की। राजा फोरलेन स्थित पेट्रोल पंप पर काम करता था। जमानत पर चल रहा था। पेशी पर कोर्ट आता था। रात 10 बजे प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट अस्पताल पहुंची। पुलिसकर्मियों के बयान लिए। रात 1 बजे तक जांच चलती रही।

मामले में राजा के मामा रामप्रसाद कहार का कहना है कि हम बेटे को कोर्ट से पुलिस कस्टडी में सुरक्षित छोड़कर गए। आधे से पौन घंटे बाद फोन आता है कि आपका बेटा सीरियस है। आप जिला अस्पताल आ जाओ। अस्पताल में बताया कि उसने जहर खा लिया। हमें आशंका है कि साजिश के तहत उसके साथ यह घटनाक्रम हुआ है।

SDOP पराग सैनी ने बताया कि मेडिकल कराने और अस्पताल लाने के दौरान उसे उल्टियां हुई। पुलिस की मौजूदगी में जिला अस्पताल से परिजन उसे निजी अस्पताल लेकर आए। यहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई। मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में क्लियर होगा। 3 डॉक्टरों की टीम पोस्टमार्टम करेगी।