MP NHM संचालक Sir, हमारे साथ कर्मचारियों की तरह व्यवहार करें, मजदूरों की तरह नहीं

मिशन संचालक महोदय
, राष्ट्रीय स्वास्थ मिशन, मध्य प्रदेश। महोदय जी, हम सभी एनएचएम के कर्मचारी स्वास्थ विभाग में दिन रात अपनी सेवाएं दे रहे हैं जबकि आज भी हम संविदा नामक बीमारी से ग्रस्त हैं। जिसमें न हमें अच्छा वेतन मिलता है न ही रेगुलर कर्मचारियों की तरह सुविधाएं। मार्च का महीना निकल चुका है। सभी विभाग अपने कर्मचारियों को इंक्रीमेंट दे चुके हैं लेकिन एनएचएम अभी भी बेसुध बैठा हुआ है।

कई विभाग तो जून 2018 की नीति के तहत संविदा कर्मचारियों को मूल वेतन का 90% दे चुके हैं पर एनएचएम न तो जून 2018 की नीति लागू करने के पक्ष में दिखाई दे रहा है न ही इंक्रीमेंट के, हम सभी कर्मचारी आपसे बस इतना सा निवेदन कर रहे हैं कि हमारे साथ भी कर्मचारियों की तरह व्यवहार हो न की मजदूरों कि तरह।

हमने अगर संविदा नौकरी ज्वाइन की है तो ये कोई गुनाह नहीं हो सकता। ना ही संविदा नाम किसी विभाग को कर्मचारियों का शोषण करने का अधिकार दे देता है। अतः आपसे निवेदन है की संविदा कर्मचारियों की मांगों जैसे मूल वेतन का 90%, मानदेय में वृद्धि और महंगाई भत्ता की पात्रता पर उचित कदम उठाया जाए।
✒ MP NHM के समस्त संविदा कर्मचारी  

अस्वीकरण: खुला-खत एक ओपन प्लेटफार्म है। यहां मध्य प्रदेश के सभी जागरूक नागरिक सरकारी नीतियों की समीक्षा करते हैं। सुझाव देते हैं एवं समस्याओं की जानकारी देते हैं। पत्र लेखक के विचार उसके निजी होते हैं। इससे पूर्व प्रकाशित हुए खुले खत पढ़ने के लिए कृपया Khula Khat पर क्लिक करें. यदि आपके पास भी है कुछ ऐसा जो मध्य प्रदेश के हित में हो, तो कृपया लिख भेजिए हमारा ई-पता है:- editorbhopalsamachar@gmail.com