INDORE में कारोबारी के बेटे को 20 लाख की पड़ी एक ई-सिगरेट, 8 महीने तनाव में रहा सो अलग

इंदौर।
मध्यप्रदेश के इंदौर शहर में 8th के छात्र को ब्लैकमेल करने के मामले में क्राइम ब्रांच ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार किया है। आरोपित पिछले आठ माह से छात्र को धमका कर 25 तोला सोना (लगभग 1400000 रुपए से ज्यादा) और छह लाख रुपये ऐंठ चुके थे। छात्र के पिता का रेगजीन का कारोबार है। 10 दिन पूर्व उन्होंने इंस्टाग्राम पर छात्र और बदमाशों की चैटिंग पढ़ ली और पुलिस आयुक्त हरिनारायणाचारी से शिकायत की।

पुलिस उपायुक्त (अपराध) निमिष अग्रवाल के मुताबिक गिरफ्तार आरोपितों के नाम मोहम्मद सूफियान पुत्र इकबाल निवासी गुलजार कालोनी, मोहम्मद फरहान पुत्र इकबाल निवासी गुलजार कालोनी और अयान पुत्र इकबाल निवासी गुलजार कालोनी है। 14 वर्षीय पीड़ित छात्र भी पहले ब्रुकबांड कालोनी (माणिकबाग) में रहता था। पिछले साल लाकडाउन के दौरान आरोपितों ने छात्र से दोस्ती कर ली और एक दिन ई सिगरेट मुंह में लगा कर उसका फोटो खींच लिया। आरोपितों ने छात्र को बदनाम करने की धमकी दी और रुपये मांगना शुरू कर दिए। घबराया छात्र घर से रुपये निकाल कर देने लगा।

उपायुक्त के मुताबिक आरोपितों ने पठान के नाम से इंस्टाग्राम आइडी बना ली थी। फरहान उससे पठान के नाम से चैटिंग कर रुपये मंगवाता था। तीनों ने छात्र से कहा कि उनका बम्बई बाजार के गुंडों से संबंध है। हत्या और हत्या की कोशिश के प्रकरण भी चल रहे हैं। छात्र और उसके पिता की हत्या की धमकी दी तो सात माह के भीतर छात्र ने लॉकर में रखे 25 तोला वजनी जेवर और रुपये चुरा कर आरोपितों को दे दिए।

कुछ दिनों पूर्व छात्र के पिता उसका मोबाइल चला रहे थे तो फरहान का मैसेज आया। मैसेज में उसने छात्र को रुपयों के लिए धमकाया था। छात्र के पिता ने मैसेज पढ़ लिया लेकिन फरहान ने उसे तुरंत डिलीट कर दिया। कारोबारी छात्र बन कर बात करने लगे तो पूरा घटनाक्रम स्पष्ट हो गया। 

इसके पूर्व तो वे नौकरानी और घर के सदस्यों पर ही शंका कर रहे थे। कारोबारी ने पुलिस आयुक्त हरिनारायणाचारी मिश्र को शिकायत की और क्राइम ब्रांच से जांच करवाई। तकनीकी आधार पर जांच हुई और शुक्रवार को पुलिस ने तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर राजेंद्र नगर पुलिस के सुपुर्द कर दिया। इंदौर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया indore news पर क्लिक करें