MP NEWS- मंत्री गोपाल भार्गव का हताशा से भरा बयान, मैं रहूं ना रहूं..., ज्योतिरादित्य ने हिम्मत बंधाई

भोपाल
। भारत के 4 राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की जबरदस्त जीत का जश्न मध्यप्रदेश में भी मनाया जा रहा है लेकिन सागर जिले की गढ़ाकोटा में शिवराज सिंह चौहान सरकार के कैबिनेट मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता गोपाल भार्गव का हताशा से भरा हुआ बयान, समाज के कई वर्गों में चिंता का विषय बन गया। 

मध्य प्रदेश के कैबिनेट मंत्री का बड़ा बयान- राजनीति में कोई भरोसा नहीं 

सागर जिले में रहस मेला की परंपरा 214 साल पुरानी है। मंत्री बनने के बाद पंडित गोपाल भार्गव ने इस मेले को भव्य रूप देने की कोशिश की। शुक्रवार को इसी मेले में अपनी विधानसभा गढ़ाकोटा की जनता को संबोधित करते हुए पंडित गोपाल भार्गव ने कहा कि आप लोग इस मेले को आगे बढ़ाते रहें। हम लोग तो ऐसे हैं कि राजनीति में कोई भरोसा नहीं रहता। जीवन का भी कोई भरोसा नहीं है। यह कहते हुए उनका गला भर आया और उन्होंने अपना भाषण समाप्त कर दिया। 

SAGAR NEWS- गोपाल जी, आपके साथ ज्योतिरादित्य खड़ा है

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा- अभी मंच से गोपाल जी कह रहे थे कि मैं रहूं या ना रहूं, ये मेला चलना चाहिए। विधि का विधान है, लेकिन मैं रहली की जनता से विश्वास लेना चाहता हूं कि जिस व्यक्ति ने अपना संपूर्ण जीवन आप को समर्पित किया, जिस व्यक्ति के जीवनकाल में हर क्षण में अगर आवाज उठी तो रहली के झंडे की आवाज उठी, सागर के झंडे की आवाज उठी, उस व्यक्ति का साथ आप और हम मिलकर अंतिम सांस तक देने के लिए तैयार रहेंगे। गोपाल जी, आपके साथ ज्योतिरादित्य खड़ा है।

BJP NEWS- मंत्री गोपाल भार्गव हताश क्यों हैं

पंडित गोपाल भार्गव भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता है। भाजपा सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं। इसके बावजूद वह हताश क्यों हो रहे हैं। दरअसल इसके पीछे भाजपा की इंटरनल पॉलिटिक्स है। गोपाल भार्गव अकेले पड़ गए हैं। मध्यप्रदेश में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं को सम्मान पूर्वक किनारे करने की परंपरा पुरानी है। पिछले 15 सालों में भाजपा के कई कद्दावर नेताओं को चुनावी राजनीति से बाहर कर दिया गया। किसी को उम्र के नाम पर रिटायर किया गया तो किसी की सीडी जारी कर दी गई। कहा जा रहा है कि इस बार गोपाल भार्गव की बारी है। 

बहुजन समाज पार्टी से निष्कासित हुई महिला विधायक श्रीमती रामबाई परिहार को उनके पीछे लगा दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के कुछ बड़े नेता रामबाई को गोपाल भार्गव के खिलाफ तैयार कर रहे हैं। आगामी चुनाव में गोपाल भार्गव को रामबाई के सामने पराजित करने की प्लानिंग की जा रही है। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.