ESS के बिना अधिकारी ने खुद की सैलरी निकाल ली, कर्मचारियों की रोक दी - MP karmchari news

जबलपुर
। निर्देशित किया गया है कि ESS (EMPLOYEE SELF SERVICE) के बिना कर्मचारियों का वेतन रोक लिया जाए। अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के संरक्षक योगेन्द्र दुबे, जबलपुर जिला अध्यक्ष अटल उपाध्याय ने बताया है कि कुछ अफसरों ने निर्देशों का पालन करते हुए कर्मचारियों का वेतन तो रोक लिया लेकिन खुद की सैलरी निकाल ली।

तनख्वाह ना मिलने से अनेक कर्मचारी भारी आर्थिक परेशानी का सामना कर रहे है। अपना वेतन निकाल कर कर्मचारियों का वेतन रोकने वाले अफसर की विभाग में कटु निंदा की जा रही है। इसी तरह कुछ आहरण अधिकारियों द्वारा वाटसऐप ग्रुप में आदेश भेज कर तनख्वाह रोकी जा रही है। जानकारी देने वाले कर्मचारियों को भी तनखाह नहीं दी जा रही है। जानकारी कम्प्यूटर में भरने के लिए कर्मचारियों की डियूटी भी नही लगाई गई ,लेकिन जानकारी ना देने का बहाना बनाकर देयक कोषालय में नहीं भेजे गये है। 

हिरन जलसंसाधन पचपेढी के एक संभागीय अधिकारी ने एक ही बिल्डिंग में संलग्न वाले कार्यालय से अपना वेतन निकाल लिया और अपने संभागीय कार्यालय के आहरण अधिकारी होने के कारण कर्मचारियों का वेतन नहीं निकाल रहे, ना जानकारी के लिए प्रयास किये जा रहे है। ITI प्राचार्य शासकीय संभागीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था द्वारा आज आदेश क्रमांक 1373/दिनांक 8/3 /2022 जारी कर डेटा फीड करने कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। यही अफसर वाटसऐप में आदेश भेजकर अपने कर्तव्य की इति श्री मान रहे थे। 

करीबन 185 कर्मचारियों का वेतन नहीं दिया गया जबकि अनेक कर्मचारियों ने अपनी जानकारी कार्यालय में जमा कर दी है। आज 8 मार्च को जानकारी फीड करने के लिए ड्यूटी लगाई गई है। इससे जाहिर होता है कि पहले प्रयास ही नहीं किये गए, लापरवाही के कारण सैकड़ों कर्मचारियों को सैलरी नहीं मिल पाई है। 

मध्य प्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा जबलपुर जिला अध्यक्ष अटल उपाध्याय, नरेश शुक्ला, विश्वदीप पटैरिया, रविकांत दहायत, संतोष मिश्रा मुकेश चर्तवेर्दी, संजय गुजराल देवदोनेरिया, प्रसांन्त सोंधिया, योगेष चौधरी, प्रदीप पटैल, मुकेश मरकाम, योगेन्द्र मिश्रा, अजुर्न सोमवंशी पी.एल गोतम, चंदूजाउलकर, नरेन्द्र सैन, संदीप नेमा, गोविन्द विल्थरे, अजय दुबे ने जानकारी ना देने के पश्चात अपना वेतन निकालने वाले अधिकारी की जॉच कर कड़ी कार्यवाही की मॉग की है। 8 मार्च को ऑर्डर करने वाले अफसर की लापरवाही की निंदा की जा रही है। आहरण अधिकारियों से कंप्यूटर में जानकारी फीड करने अलग अलग शिफ्ट में ड्यूटी लगाने की माँग की है। कर्मचारियों से संबंधित महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया MP karmchari news पर क्लिक करें.