BHOPAL NEWS- ओबीसी नेताओं को ACP का नोटिस, प्रदर्शन पर कार्यवाही की तैयारी

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में ओबीसी महासभा के बैनर तले 2 जनवरी 2022 को सरकार के खिलाफ बड़े प्रदर्शन की तैयारी चल रही है। पुलिस को सूचना मिली है कि इस प्रदर्शन के दौरान हिंसा की साजिश रची गई है। असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस ने कुछ नेताओं को नोटिस भेजकर जवाब तलब किया है। 

ओबीसी महासभा के प्रदर्शन में कितने नेता कितने संगठन

सोशल मीडिया के माध्यम से मिली जानकारी के अनुसार ओबीसी महासभा के बैनर तले दिनांक 2 जनवरी 2022 को होने वाले प्रदर्शन में भीम आर्मी, जय आदिवासी युवा संगठन (जयस), आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) के नेता एवं कार्यकर्ता मुख्य रूप से प्रदर्शन करेंगे। उत्तर प्रदेश एवं मध्यप्रदेश के आदिवासी अंचल से हजारों युवाओं से भोपाल पहुंचने की अपील की गई है। यह भी बताया गया है कि भोपाल की सीमाएं सील रहेंगे इसलिए राजधानी में प्रवेश करने के लिए वैकल्पिक रास्तों का उपयोग करें। प्रदर्शन के दौरान उपयोग किए जाने वाले झंडे और बैनर छुपा कर लाएं। 

ओबीसी महासभा प्रदर्शन- भोपाल पुलिस की तैयारी

असिस्टेंट कमिश्नर ऑफ पुलिस ने कुछ नेताओं को नोटिस जारी किया है। इनमें से ज्यादातर वही हैं जो प्रदर्शन की अनुमति आदि के लिए सरकारी अधिकारियों के संपर्क में थे। एसीपी टीटी नगर भोपाल में स्पष्ट किया है कि उनके पास पुख्ता जानकारी है कि ओबीसी महासभा के नाम पर होने वाले प्रदर्शन में हिंसा की साजिश रची गई है। दिनांक 2 जनवरी 2022 को प्रस्तावित प्रदर्शन के लिए प्रशासनिक अनुमति भी जारी नहीं की गई है। एसीपी टीटी नगर का कहना है कि यदि बिना अनुमति के कोविड-19 प्रोटोकॉल तोड़कर और धारा 144 के प्रतिबंधों का उल्लंघन किया गया तो शांति की स्थापना के लिए पुलिस को कार्रवाई करनी पड़ेगी। 

कांग्रेस सांसद विवेक तन्खा ने आपत्ति जताई 

कांग्रेस पार्टी के नेता एवं राज्यसभा के सदस्य विवेक तन्खा ने भोपाल पुलिस की कार्रवाई पर आपत्ति जताई उनका कहना है कि मध्य प्रदेश की सरकार ओबीसी नेताओं से डर रही है। इस देश में शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बात रखना सबका अधिकार है। यदि सरकार खुद को ओबीसी का हितैषी कहती है तो फिर ओबीसी नेताओं को रोकने का प्रयास क्यों किया जा रहा है। उन्हें विधिवत शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करने की अनुमति देनी चाहिए।

प्रदर्शन भोपाल में है दिल्ली में नहीं, बाहरी क्यों आ रहे हैं: सुरेंद्र शर्मा 

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य श्री सुरेंद्र शर्मा का कहना है कि 27% ओबीसी आरक्षण मध्यप्रदेश का विषय है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसके लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं और जनता को यह दिखाई भी दे रहा है। पुलिस के पास पुख्ता सूचना है कि पड़ोसी राज्यों के उपद्रवियों को इस प्रदर्शन में शामिल किया जा रहा है। ऐसा प्रदर्शन जिसमें हिंसा की साजिश रची जा रही हो, उसे रोक देना ही उचित होता है। वैसे भी मध्यप्रदेश के पिछड़ा वर्ग को चिंता करने की जरूरत नहीं। विधानसभा में सरकार की प्रतिबद्धता प्रमाणित हो चुकी है। भोपाल की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया bhopal news पर क्लिक करें.


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here