MP BOARD- पेपर सरल होंगे, स्टूडेंट्स को किताबें चुनने की आजादी

भोपाल
। नई शिक्षा नीति 2020 के तहत मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल की व्यवस्थाओं में क्या परिवर्तन होगा, बोर्ड रिफॉर्म्स एवं असिस्मेंट विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी के पहले दिन इसी बात पर डिस्कस हुआ। 

एमपी बोर्ड के स्टूडेंट्स अब सब्जेक्ट नहीं बुक्स सिलेक्ट कर सकेंगे

बताया गया कि स्टूडेंट्स को अब तक सब्जेक्ट चुनने की आजादी थी लेकिन अब किताबें चुनने की आजादी होगी। यानी एक स्टूडेंट मैथ्स के साथ हिस्ट्री की पढ़ाई भी कर सकता है। PCM अनिवार्य नहीं होगा। पेपर भी सरल होंगे। सेमिनार भोपाल के कुशाभाऊ ठाकरे कन्वेंशन सेंटर (मिंटो हॉल) में मध्यप्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग एवं माध्यमिक शिक्षा मंडल के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। जिसमें विभिन्न प्रदेशों के शिक्षा बोर्ड, एनसीईआरटी, सीबीएससी, आईसीएसई, आईबी कैंब्रिज बोर्ड और प्रदेश के शिक्षाविद शामिल हुए। 

नई शिक्षा नीति 2020- एमपी बोर्ड परीक्षाओं में क्या बदलेगा

ओपन बुक पैटर्न से परीक्षा की संभावना तलाशी जा रही
ऑनलाइन पढ़ाई के साथ ही ऑनलाइन परीक्षा के विकल्प
अपनी स्ट्रीम के साथ छात्र स्ट्रीम से अलग विषय ले सकेगा
बेसिक और स्टैंडर्ड गणित में से चुनाव कर सकेगा छात्र
सभी स्कूलों में नेट कनेक्टिविटी करने का प्रयास किया जा रहा
एक सेंटर में ऑनलाइन परीक्षा का प्रयोग किया जाएगा
स्किल बेस एजुकेशन पर अब जोर दिया जाएगा
ऑनलाइन पढ़ाई के लिए सभी विषयों पर 700 से अधिक वीडियो तैयार किए गए
15 हजार 500 प्रश्न का बैंक बनाया गया है

बोर्ड रिफॉर्म्स एवं असिस्मेंट सेमिनार- यह सुझाव आए

ऑनलाइन एक्जाम कराएं
ऑनलाइन पेपर जांचने की सुविधा
प्रश्नों के उत्तरों को ज्यादा से ज्यादा छोटा पैटर्न किया जाए
परीक्षा के समय को 3 घंटे के तय समय को बदलना
बड़े उत्तर लिखने की जगह बिंदुवार किया जाए
नेशनल टेस्ट एजेंसी की तरह ही राज्य भी परीक्षा आयोजित करने का सिस्टम बनाएं

एमपी बोर्ड- 15 लाख स्टूडेंट्स, 1 दिन में 1 लाख ऑनलाइन परीक्षा दे सकते हैं

संगोष्ठी के दौरान बताया गया कि मध्यप्रदेश में अभी करीब 40 हजार कम्प्यूटर है। ऐसे में एक दिन में करीब 80 हजार छात्र ऑनलाइन परीक्षा दे सकते हैं। हालांकि, इसके अलावा प्राइवेट एजेंसी टैबलेट के माध्यम से भी परीक्षा आयोजित करवाते हैं। यह एक साथ 1 लाख छात्रों से पेपर दिलवा सकते हैं। सनद रहे कि चालू शिक्षा सत्र में कक्षा 10 एवं कक्षा 12 की कुल 17 लाख विद्यार्थियों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया है। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.