होलिका दहन 2021 का मुहूर्त समय, पूजा विधि एवं सामग्री की लिस्ट - Holika Dahan ka muhurat time

अत्यंत शक्तिशाली, घमंडी और स्वयं को भगवान घोषित करने वाले राजा हिरण्यकश्यप का अहंकार जलाकर राख कर देने वाले प्रसंग को सदैव स्मृति में बनाए रखने के लिए होलिका दहन का आयोजन किया जाता है। भारतीय पंचांग के अनुसार फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष में पूर्णिमा तिथि पर होलिका दहन का आयोजन किया जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह तिथि दिनांक 28 मार्च 2021 दिन रविवार को पड़ रही है।

होलिका दहन 2021 का शुभ मुहूर्त समय 

भद्रा की समाप्ति: दोपहर 1:33 बजे। 
पूर्णिमा तिथि की अवधि: रात्रि 12:40 बजे तक। 
शास्त्रानुसार भद्रा रहित पूर्णिमा तिथि में ही होलिका दहन किया जाता है। 
किसी भी स्थिति में रात्रि  12:30 बजे से पूर्व होलिका दहन हो जाना चाहिए। 
होलिका दहन का विशेष मुहूर्त: शाम 6.51 बजे से रात 9.12 बजे तक 

HOLIKA DAHAN TIMING 28 MARCH 2021

पंचांग के अनुसार होलिका दहन का मुहूर्त 28 मार्च को शाम 18 बजकर 37 मिनट से रात्रि 20 बजकर 56 मिनट तक रहेगा यानि 02 घंटे 20 मिनट तब होलिका दहन का मुहूर्त बना हुआ है। इसी मुहूर्त में होलिका दहन करना अत्यंत शुभ है। इस वर्ष होलिका दहन के समय भद्रा नहीं रहेगी। 

होलिका दहन के दिन अन्य विशेष मुहूर्त

अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 12 बजकर 07 मिनट से दोपहर 12 बजकर 56 मिनट तक।
अमृत काल - सुबह 11 बजकर 04 मिनट से दोपहर 12 बजकर 31 मिनट तक।
ब्रह्म मुहूर्त - सुबह 04 बजकर 50 मिनट से सुबह 05 बजकर 38 मिनट तक।
सर्वार्थसिद्धि योग - सुबह 06 बजकर 26 मिनट से शाम 05 बजकर 36 मिनट तक। इसके बाद शाम 05 बजकर 36 मिनट से 29 मार्च की सुबह 06 बजकर 25 मिनट तक।
अमृतसिद्धि योग - सुबह 05 बजकर 36 मिनट से 29 मार्च की सुबह 06 बजकर 25 मिनट तक। 

होलिका की पूजा के लिए आवश्यक सामग्री की लिस्ट

पूजा के लिए, आपको गाय के गोबर, कुछ फूलों की माला, गंगाजल या साफ पानी, सूत, पांच प्रकार के अनाज, रोली-मौली, अक्षत, हल्दी, बताशे, रंग, फल और फलों से बने थाल की आवश्यकता होगी। पूजा का आयोजन करते समय मिठाई भोग के लिए अवश्य रखें।

होलिका की पूजा विधि एवं नियम - होली की पूजा कैसे करें, ध्यान से पढ़िए

• पूर्णिमा होलिका दहन के दिन, आपको सुबह जल्दी उठना चाहिए और स्नान करना चाहिए और इसके बाद आपको होलिका व्रत का पालन करने की शपथ लेनी चाहिए।
• दोपहर में जिस स्थान पर होलिका दहन पूजा होती है, उस स्थान को अच्छी तरह से साफ करें फिर सफाई के बाद आप होलिका दहन के लिए सूखी लकड़ी, सूखे कांटे, गोबर आदि की व्यवस्था कर सकते हैं।
• फिर गाय का गोबर लें और प्रहलाद और होलिका की मूर्तियाँ तैयार करें।
• भगवान नरसिंह की आराधना के लिए सभी आवश्यक वस्तुओं की तैयार करें।

• आप रात में पूजा शुरू कर सकते हैं, होलिका को जला सकते हैं, एक-एक करके आगे बढ़ सकते हैं, या परिवार के सदस्यों के साथ, आपको होलिका के तीन चक्कर लगाने होंगे।
• फिर नरसिंह भगवान का नाम लें और अपने हाथ में पांच प्रकार के अनाज लें और इसे अग्नि में डाल दें।
• पवित्र अग्नि के फेरे पूरे करते समय होलिका को ढकने के लिए एक कच्चा सूत लें। इसके अलावा अर्घ्य भी दें।

• पवित्र अग्नि में गाय के गोबर, सूखे चने, जौ, गेहूं आदि की एक स्ट्रिंग (बाल) डालें।
• फिर होली के रंगों को गुलाल की तरह पवित्र अग्नि में डालें और होलिका को जल अर्पित करें।
• अंत में, जली हुई आग की कुछ राख इकट्ठा करें और इसे अपने घर में रखें आप इसे छिड़क भी सकते हैं और इसे अपने माथे पर तिलक के रूप में लगा सकते हैं। 
• होलिका की राख में से छोटा सा भाग निकालकर एक पोटली बनाकर इसे अपने घर में सुरक्षित रख लें। यह पोटली हिरण्यकश्यप जैसे शक्तिशाली और अहंकारी व्यक्तियों से आपकी रक्षा करेगी। 


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here