Loading...    
   


AMAZON और FLIPKART को BSC के छात्र ने 17 लाख का चूना लगाया - GWALIOR NEWS

ग्वालियर।
 मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर में राज्य साइबर पुलिस ने अमेजन कंपनी और फ्लिपकार्ट को 17 लाख का चूना लगाने वाले बीएससी (BSC) के छात्र देंवाशु उर्फ सनी चौहान को पकड़ा है। आरोपित मूल रूप से डबरा का रहने वाला है। पुलिस ने उसे अमेजन की कंपनी शिकायत पर गोविंदपुरी से पकड़ा है।    

आरोपित ने ई-कंपनियों को ठगने के लिए नए तरीका निकाला था। देंवाशु पहले ई-कंपनी की साइड पर महंगे इलेक्ट्रोनिक्स आइटम का आर्डर करता था। कंपनी आन लाइन भुगतान लेने के बाद प्राडक्ट को डिलेवरी कर देती थी। आरोपित इस प्राडक्ट में कोई तकनीकी कमी बताकर आर्डर कैंसिल कर देता था और डिलेवरी मेन को आरिजनल प्रॉडक्ट निकालकर उसके स्थान पर डमी रखकर वापस कर देता था। इस तरीके से अमेजन कंपनी को वह छह महीने में 17 लाख रुपये से अधिक की क्षति पहुंचा चुका था। 

पुलिस ने आरोपित के घर से 23 लाख रुपये की कीमत के ठगे इलेक्ट्रोनिक्स उपकरण व अन्य सामान बरामद किया है। आरोपित पांच करोड़ की लगात से गेमिंग सर्वर बनाना चाहता था। राज्य साइबर सेल(ग्वालियर जोन)एसपी सुधीर अग्रवाल ने बताया कि अमेजन कंपनी ने राज्य साइबर को शिकायत की थी कि मध्य प्रदेश के ग्वालियर व उसके आसपास के क्षेत्र से कोई ठग आन लाइन आर्डर करता है। आन लाइन भुगतान होने के बाद कंपनी प्राडक्ट भेज देती है। शातिर ठग इस प्राडक्ट में कोई न कोई कमी बताकर आर्डर कैंसिल कर देता है। आर्डर कैंसिल करने के बाद वह डिलेवरी मेन को पैक कर डमी प्राडक्ट थमा देता था। 

आर्डर कैंसिल होने पर कंपनी उसके खाते प्राडक्ट खरीदने के लिए भुगतान की गई राशि उसके खाते में वापस रिफंड कर देती थी। इस तरह से पैसा वापस आने के साथ प्रॉडक्ट भी उसके पास आ जाता था। राज्य साइबर सेल ने अज्ञात ठग के खिलाफ प्रकरण दर्ज पड़ताल शुरू की। एसपी ने शातिर ठग को पकड़ने के लिए निरीक्षक मुकेश नारोलिया, उप निरीक्षक अजय मिश्रा, शैलेंद्र राठौर, प्रधान आरक्षक हरनारायण शर्मा, पवन शर्मा,आरक्षक पुष्पेंद्र सिंह यादव,रमन शर्मा, प्रवीन शर्मा, मेघ श्याम बलविंद्र की टीम गठित की।

नए नंबर और नए आधार कार्ड से आर्डर करता था- पुलिस ने सबसे पहले कंपनी से आरोपित द्वारा आन लाइन आर्डर की जानकारी हासिल की। कंपनी से मिली जानकारी के अध्ययन करने पर पता चला कि आरोपित काफी शातिर है। हर बर नए मोबाइल नंबर के साथ नए आधार कार्ड का उपयोग करता है। मोबाइल नंबरों पर नजर डालने के बाद पुलिस ने मोबाइल आईएमईआई नंबर चेक करने पर पता चला कि आरोपित आर्डर करने के लिए नए मोबाइल फोन का उपयोग करता था। बारीकी से जांच करने पर पुलिस को ठग की एक चूक पकड़ में आ गई। आरोपित ने आधा दर्जन से अधिक आर्डर एक ही मोबाइल से सिम बदल-बदलकर किए थे। बस इसी चूक से राज्य साइबर सेल आरोपित को तलाशते हुए गोविंदपुरी तक पहुंच गई।

 पुलिस ने गोविंदपुरी से देवांशु उर्फ सन्नाी पुत्र उमाशंकर चौहान निवासी गोपाल बाग ठाकुर बाबा रोड डबरा हाल निवास गोविंदपुरी को पकड़ लिया। आरोपित के रूम की तलाशी लेने पर पुलिस को 23 लाख रुपये की कीमत के इलेक्ट्रोनिक्स उपकरण सहित अन्य सामान बरामद किए हैं।
यह सामान बरामद किया- ढाई लाख रुपये की कीमत 01 केटीएम बाइक, 1 सुजुकी की स्कूटी कीमत 95 हजार(यह गाड़ी आरोपित ने ठगी के पैसों से खरीदी हैं) 30 सिम, 15 मोबाइल फोन, 4 बैंक खाते, 6 डेबिट व क्रेडिट कार्ड, एक लैपटाप, दो डेस्क टाप, तीन सीपीयू, तीन मदर बोर्ड, चार प्रोसेसर, तीन डुप्लीकेट आइफोन, 13 आइफोन वाच. 40 आइफोन वाच(बाक्स) 13 हार्ड डिस्क, पांच आइसी चिप, आठ हार्ड डिस्क, तीन सामान पैकिंग मशीन, एक होट गन, दो सेमसंग कंपनी की एलइडी, एक माइकोमैक्स एलइडी टीव्ही,पांच आइफोन वाच, दो सोनी कैमरे के कैमरे(स्पीकर) पीसी स्टाल करने का साामान, 13 नग गेमिंग कंट्रोल छह रेम, 10 टीएस-4 गेम सीडी, जेबीएल ब्लू टूथ स्पीकर, दो कोसमो व्हाइट गेमिंग हेंड सेट, एक इलेक्ट्रोनिक्स वेट मशीन, टूल किट एक्स बाक्स, 360 कौंसलिंग गेमिंग, सीपी प्लस स्मार्ट कैमरा, सात पोड्स एप्पल, 10 पवार केबिल, एक पैकेट यूएसबी केबल, पैकेट पैकिंग स्टीक, 10 नग खाली बाच वाक्स, एक डबल सफेद पैकिंग पन्न्ी, एक राउटर, चार नग गेम प्ले स्टेशन पैक करने के कवर, एक डीबीडी राइटर जब्त किए।

1- अमेजन कंपनी के प्लेट फार्म पर आर्डर कैंसिल कर 16 लाख 92 हजार का लगाया चूना।
2- अमेजन व फ्लिपकार्ड कंपनी सामान व मशीनंे बरामद कीं
3- पांच करोड़ से अधिक की लागत से विश्व लेबल का गेमिंग सर्वर बनाने की तैयारी कर रहा था।
4- युवा पीढ़ी को गेमिंग का चस्का लगाकर करोड़ो रुपया कमाना चाहता था।
- आस्ट्रेलिया, अमेरिका व जापान के लोगों के संपर्क में था।

28 फरवरी को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार 



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here