Loading...    
   


पृथ्वी पर ऑक्सीजन एवं कार्बन डाइऑक्साइड का बैलेंस कैसे बना हुआ है - SCIENCE की बातें

HOW DOES OXYGEN AND CARBON DIOXYIDE BALANCE TAKES PLACE ON THE EARTH

दुनिया भर में कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन लगातार हो रहा है। मनुष्य या पृथ्वी पर मौजूद सभी जीव जंतुओं को जीवित रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत है। कारखानों, कारों और इंसानों की आबादी तेजी से बढ़ रही है। इसके बावजूद पृथ्वी पर कार्बन डाइऑक्साइड और ऑक्सीजन का बैलेंस बना हुआ है। सवाल यह है कि यह संतुलन कैसे बनता है। कौन बनाता है। आइए इस सवाल का जवाब जानने की कोशिश करते हैं।

जीवन को बनाए रखने के लिए पेड़-पौधे क्यों आवश्यक है

चूँकि पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए जीव- जंतु तथा पेड़ -पौधे दोनों ही अति आवश्यक है या कहें कि एक दूसरे के पूरक ही हैं। यदि जीव-जंतु ना हो तो पेड़-पौधे भी जीवित नहीं रह पाएंगे और यदि पेड़-पौधे ना हो तो जीवन की कल्पना नहीं की जा सकती परंतु आज हम इसके पीछे का कारण जानने की कोशिश करते हैं।

पृथ्वी पर O2 और CO2 के बैलेंस का कारण

तो इसके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दो जैविक क्रियाएं श्वसन (Respiration) और प्रकाश संश्लेषण (Photosynthesis) को जानना आवश्यक है। जीव विज्ञान की भाषा में तो दोनों बहुत जटिल प्रक्रिया हैं परंतु अगर सरल शब्दों में कहें तो श्वसन का अर्थ है CO2 को बाहर निकालना और प्रकाश संश्लेषण का अर्थ है O2 को बाहर निकालना यानी कि इन दोनों गैसों का धरती पर बैलेंस बना रहना जीवन के लिए बहुत आवश्यक है।

रात के समय पेड़ों के नीचे क्यों नहीं सोना चाहिए

जब जीव जंतु सांस लेते हैं तो CO2 को बाहर निकालते हैं और आपको जानकर शायद थोड़ा सा झटका लगे कि पेड़ पौधे भी श्वसन के दौरान CO2 ही निकालते हैं परंतु दिन के समय वे उस CO2 का उपयोग प्रकाश संश्लेषण के लिए कर लेते हैं परंतु रात के समय जब प्रकाश संश्लेषण की क्रिया नहीं चल रही होती तब पौधों के पास बहुत अधिक मात्रा में CO2 एकत्रित हो जाती है। पेड़ों के नीचे कार्बन डाइऑक्साइड का चेंबर बन जाता है और यह इंसान की मौत का कारण हो सकता है। Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (science question answer in hindi, साइंस क्वेश्चन आंसर, science questions and answers general knowledge, general science question answer in hindi, science general knowledge question answer,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here