Loading...    
   


खाना खाने सवर्णों के बीच घुस आए दलित युवक की हत्या, मध्यप्रदेश के छतरपुर की घटना - MP NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश के सागर संभाग में आने वाले बुंदेलखंड इलाके में, छतरपुर जिले में अनुसूचित जाति के युवक को उच्च जाति के 2 लोगों ने डंडों से पीट-पीटकर मार डाला। दलित युवक की हत्या इसलिए की गई क्योंकि उसे इस कार्यक्रम में सफाई करने के लिए बुलाया गया था, दलित युवक उसी कार्यक्रम में मेहमानों के साथ खाना खाता हुआ दिखाई दिया। 
उल्लेखनीय है कि छतरपुर जिला बुंदेलखंड के सीमा क्षेत्र में आता है और क्षेत्र में जाति आधारित संघर्ष वर्षों से परंपरागत रूप से चला रहा है। 

सफाई करने के लिए बुलाया था, मेहमानों के साथ खाना खाने लगा इसलिए मार दिया

छतरपुर के गौरीहार के एएचओ जसवंत सिंह राजपूत ने बताया कि किशनपुर गांव में एक पार्टी का आयोजन था। वहां आरोपी भूरा सोनी और संतोष पाल ने पार्टी के बाद दलित युवक को सफाई करने के लिए बुलाया था। पार्टी के दौरान सफाई कर्मी देवराज अनुरागी मेहमानों के साथ खाना खाते हुए दिखाई दिया। यह देखते ही आयोजक पूरा सोनी और संतोष पाल ने उसे डंडों से मारना शुरू किया और तब तक मारते रहे जब तक कि उसकी मृत्यु नहीं हो गई।

वारदात के बाद आरोपी फरार

बताया जा रहा है कि वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी घटनास्थल से फरार हो गए। पुलिस ने बताया कि फरार हुए आरोपी सोनी और पाल के खिलाफ हत्या व एससी/एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज कर लिया गया है। जल्द ही उन्हें पकड़ लिया जाएगा। पुलिस टीमें उनकी तलाश में लगातार दबिश दे रही हैं।

UPDATE - खबर का असर: मुख्यमंत्री ने आर्थिक सहायता दी, दोनों आरोपी गिरफ्तार 

खबर प्रसारित होने के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय एक्टिव हुआ एवं सही जानकारी सीएम शिवराज सिंह चौहान तक पहुंचाई गई। मुख्यमंत्री श्री Shivraj Singh Chouhan ने छतरपुर जिला मुख्यालय से लगभग 100 किलोमीटर दूर गोरीहार थाना क्षेत्र के गांव किसनपुरा में दलित युवक स्वर्गीय श्री देवराज अनुरागी  पिता श्री कल्लू अनुरागी की पिटाई उपरांत मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए श्रद्धांजलि दी है तथा परिवारजनों को हार्दिक सांत्वना दी है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पीड़ित परिवार को अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत 08 लाख रूपए राशि स्वीकृत किए जाने के निर्देश दिए हैं। योजना अंतर्गत प्रकरण दर्ज होने पर 04 लाख रूपए तथा न्यायालय में चालान प्रस्तुत होने पर बकाया 04 लाख रूपए की राशि दी जाती है। प्रकरण में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए हैं कि दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।

10 दिसम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here