Loading...    
   


BHOPAL में बियर फैक्ट्री में कर्मचारी की खून से लथपथ लाश मिली - MP NEWS

भोपाल।
मध्य प्रदेश में भोपाल के गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र स्थित लीला संस एंड कंपनी की बंद बियर फैक्ट्री में पूर्व कर्मचारी की खून से लथपथ लाश मिली है। वे स्टाफ क्वार्टर में रह रहे थे। मौके से पुलिस ने खून से सना एक चाकू भी बरामद किया है। हालांकि पुलिस इसमें आत्महत्या और हत्या दोनों ही एंगल से जांच कर रही हे। फैक्ट्री करीब एक साल से बंद बताई जाती है। पिछले दिनों इसी फैक्ट्री में चोरी करने वाले दो चोरों को पुलिस ने पकड़ा था।

एसआई अशोका गार्डन पुलिस थाना अशोक उपाध्याय के अनुसार 61 वर्षीय रामकिशन गोविंदपुरा औद्योगिक क्षेत्र स्थित लीला संस एंड कंपनी की बंद बियर फैक्ट्री के सर्वेंट क्वार्टर में अकेले रहते थे। उनके शव घर के अंदर ही मिला। उनका पेट कटा हुआ था। पलंग पर खून से सना एक चाकू भी मिला है। हालांकि यह साफ नहीं है कि उन्होंने आत्महत्या की है या फिर उनकी हत्या की गई है।

पुलिस को उनके परिजन की जानकारी नहीं मिल पाई है। सिर्फ एक भाई का पता चला है, लेकिन उनसे भी संपर्क नहीं हो सका है। रामकिशन इस बंद पड़ी फैक्ट्री में मशीन ऑपरेटर थे। फैक्ट्री बंद हो जाने के बाद से उनके पास कोई काम नहीं था। कंपनी से पैसे नहीं मिलने के कारण उनके साथ और कई लोगों ने भी कंपनी के अंदर बने स्टाफ क्वार्टर को छोड़ा नहीं है।

मामले की जांच कर रहे एसआई अशोक उपाध्याय ने बताया कि कंपनी पर टैक्स का मामला था। ऐसे में कंपनी पर प्रशासन द्वारा कार्यवाही की गई। दिवालिया घोषित होने के बाद कंपनी बंद हो गई। ऐसे में यहां काम करने वाले नियमित कर्मचारियों ने कंपनी के ही स्टाफ क्वार्टर को नहीं छोड़ा। नगर निगम और जिला प्रशासन इसे अवैध घोषित कर चुके हैं। लोगों को कई बार क्वार्टर खाली करने का नोटिस भी दे चुके थे। लेकिन न तो कंपनी और न ही कर्मचारियों ने इस पर ध्यान दिया।

रहवासियों ने बताया कि कंपनी बंद होने के बाद से रामकिशन के पास काम नहीं था। पैसा नहीं मिलने के कारण वह कहीं जा भी पा नहीं रहे थे। लॉकडाउन के पहले छोटा-मोटा काम करके अपनी जिंदगी चला रहे थे, लेकिन लॉकडाउन के कारण वह भी हाथ से चला गया। ऐसे में लोग ही उन्हें खाने को दे दिया करते थे। किसी से मांगने में उन्हें शर्म आती थी, इसलिए जो भी घर पर आकर दे जाता था, उसी को खा लेते थे। वह बीते कई दिनों से एक टाइम ही खाना खा रहे थे। मजदूर यूनियन के अध्यक्ष हाकिम सिंह ने बताया कि अगर कंपनी समय पर कर्मचारियों का पेमेंट कर देता, तो कर्मचारियों को परेशानी नहीं होती।

12 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here