Loading...    
   


फल और सब्जी में क्या अंतर है, जबकि दोनों की प्रक्रिया एक जैसी है / GK IN HINDI

यदि हम कुछ चीजों को नजरअंदाज कर दें तो एक बीज जो पौधा बनता है, पौधे में फूल लगता है और फूल से फल का जन्म होता है लेकिन इनमें से कुछ फल ऐसे होते हैं जिन्हें 'सब्जी' के नाम से पुकारा जाता है। प्रश्न यह है कि ऐसा क्यों किया जाता है। आखिर सब्जी का अस्तित्व क्या है। सब्जी की पैदावार की कोई एक निर्धारित प्रक्रिया क्यों नहीं है। जमीन के नीचे जड़ में लगा आलू भी सब्जी है और पौधे के ऊपर फूल से निकली भिंडी भी सब्जी है। आइए जानते हैं, फल और सब्जी में क्या अंतर है:- 

फल क्या होता है, आइए सरल भाषा में जानते हैं 

एक प्रक्रिया के बाद ज्यादातर सफलता के रूप में जो प्राप्त होता है उसे फल कहते हैं। अध्ययन के बाद जो प्राप्त होता है उसे परीक्षाफल कहते हैं और बगीचे में परिश्रम के बाद जो प्राप्त होता है उसे आम या अमरूद कहते हैं। यह बड़ी बेसिक सी बात है लेकिन बहुत काम की है। फल यानी वह जो एक बार के परीक्षण के बाद बार-बार प्राप्त होता है। फल यानी वह जो जीवन में बिना किसी अन्य प्रक्रिया के उपयोगी और लाभदायक होता है। (किसी भी फल को पकाना नहीं पड़ता, सीधे सेवन किया जा सकता है। परीक्षा फल को भी पकाना नहीं पड़ता, करियर बनाने के लिए सीधे काम आता है।)

किस प्रकार के फल और कंदमूल लोगों को सब्जी का नाम दिया गया 

भूमि से उत्पादित हुई उन सभी चीजों को सब्जी कहते हैं जो अनाज या दाल नहीं है। सब्जी का उत्पादन फलों की तरह होता है परंतु सब्जी के पौधे की आयु फल के पौधे के बराबर नहीं होती है। सब्जी को एक प्रक्रिया के बाद उपयोग किया जा सकता है। कच्ची सब्जियों के सेवन का विधान नहीं है। चाहे जमीन के नीचे आलू हो गया पौधे के ऊपर लौकी, किसी को भी पेड़ से तोड़कर सीधे ग्रहण नहीं किया जा सकता। इस प्रकार की उत्पादों में कुछ ऐसे वैज्ञानिक गुण हैं जो मनुष्य के दैनिक जीवन के लिए उपयोगी है। इसलिए इन्हें अनाज के सहायक के रूप में प्रतिस्थापित किया गया है।


वनस्पति विज्ञान क्या कहता है 

वनस्पति विज्ञान के अनुसार फल और सब्जी दोनों एक ही है क्योंकि दोनों के बनने की प्रक्रिया एक जैसी होती है। पौधे से उत्पन्न ऐसी कोई भी रचना जिसके अंदर बीज हैं  फल ही कहलाती है। टमाटर ,भिंडी, गिलकी, लौकी सभी एक प्रकार से फल ही है क्योंकि इनके अंदर जो बीज होते हैं वह नए पौधों को जन्म दे सकते हैं इस कारण इन्हें फल ही कहा जाता है।

लव्वोलुआब यह है कि 


सरल शब्दों में समझाइए, बात सिर्फ इतनी सी है कि फल और सब्जियों का अनुसंधान जिन वैज्ञानिकों ने किया उन्हें हम 'ऋषि' के पद नाम से पुकारते हैं। वर्तमान विज्ञान से पहले आयुर्वेद था। आयुर्वेद के अनुसार फल एवं सब्जियों का निर्धारण किया गया। अपना रसोईघर पूरी तरह से आयुर्वेदिक है। विज्ञान के चक्कर में पड़े तो दराज में सिरप और टेबलेट नजर आएंगे, इम्यूनिटी बढ़ाने वाली चटनी छूट जाएगी। Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article
(current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, current affairs 2018 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here