Loading...    
   


कोरोना : मप्र में भी अलर्ट घोषित, 31 मार्च तक सभी टॉकीज बंद | MP NEWS

मुरैना। कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या देश में तेजी से बढ़ने के बाद मप्र में भी अलर्ट घोषित किया गया है। हालांकि अभी प्रदेश में कोरोना वायरस का एक भी केस नहीं मिला है फिर भी एहतियात के तौर पर जिलेभर में संचालित 2 हजार 526 सरकारी स्कूलों, 2 हजार प्राइवेट स्कूल, 3 हजार से अधिक कोचिंग सेंटर और सभी कॉलेज शनिवार से आगामी आदेश आने तक बंद रहेंगे। साथ ही 16 मार्च से शुरू हो रहीं कक्षा एक से चौथी व छह से सातवीं तक की परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं। हालांकि बोर्ड परीक्षाएं जारी रहेंगी। वहीं 14 मार्च से 31 मार्च तक शहर के सभी सिनेमाघरों को बंद रखने के निर्देश जिला आबकारी अधिकारी ने जारी कर दिए हैं।

कलेक्टर प्रियंका दास ने बताया कि राज्य शिक्षा केंद्र के निर्देश पर जिलेभर में संचालित सरकारी और निजी स्कूलों में छुटि्टयां घोषित की गई हैं। चूंकि स्कूल में बच्चे बस से लेकर क्लास रूम तक सामूहिक रूप से बैठते हैं, इसलिए एहतियात के तौर पर सभी स्कूलों में छुट़्टियां घोषित की गई हैं। मुरैना शहर में संचालित तीन सिनेमाघर मुरैना टॉकीज, मयूर टॉकीज व गोल्ड सिनेमा सहित ब्लॉक मुख्यालय पर संचालित सिनेमाघरों को भी 14 से 31 मार्च तक बंद रखने के निर्देश जिला आबकारी अधिकारी ने जारी कर दिए हैं।

कोरोना वायरस के प्रति लोग जागरुक हों व उनमें किसी प्रकार की भ्रामक अफवाह न फैले इसके लिए कलेक्टर प्रियंका दास ने सभी 47 वार्डों के लिए 47 टीमों का गठन किया गया है। इन टीमों में राजस्व विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग (आंगनबाड़ी कार्यकर्ता-सहायिका), स्वास्थ्य विभाग, पुलिस सहित पांच विभागों के पांच लोग शामिल होकर सभी वार्डों में घूमेंगे। यह टीम लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के बारे में लोगों को बताएगी। जहां भी सर्दी-जुकाम, बुखार जैसे लक्षणों से ग्रसित लोग मिलेंगे उन्हें तुरंत ही जांच के लिए जिला अस्पताल तक पहुंचाएंगे।

1200 से 1400 की ओपीडी वाले जिला अस्पताल में सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक जबरदस्त भीड़ रहती है। भीड़भाड़ वाली जगह पर कोरोना वायरस के तेजी से फैलने का भय रहता है। खासकर वृद्धों व छोटे बच्चों में वायरस के फैलने की संभावना अधिक रहती है। इसलिए आरएमओ डॉ. जीएस तोमर व डीएचओ डॉ. धर्मेंद्र गुप्ता ने लोगों के लिए एडवायजरी जारी की है कि वे जिला अस्पताल में वृद्धों व बच्चों को बहुत जरूरी होने पर ही लेकर आएं। इसके पीछे वजह है कि बच्चों व वृद्धों की इम्युनिटी पावर कम होती है, ऐसे लोगों पर वायरस का संक्रमण तेजी से फैलता है।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here