Loading...    
   


LOAN रिकवरी से परेशान न्यू मार्केट के कपड़ा व्यापारी ने सुसाइड कर दिया | BHOPAL NEWS

भोपाल। फाइनेंस कंपनियों की लोन रिकवरी के तरीके से परेशान न्यू मार्केट के कपड़ा व्यापारी ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। इससे पहले व्यापारी ने सुसाइड नोट (वीडियो) बनाया और अपने भाई को मोबाइल पर सेंड किया। कपड़ा व्यापारी इस बात से परेशान थे कि फाइनेंस कंपनियों के रिकवरी एजेंट्स ना केवल होने हैं बल्कि उनकी पत्नी को भी परेशान कर रहे हैं।

हेमंत कुशवाहा सुसाइड मामले का घटनाक्रम

सुखसागर कॉलोनी, नीलबड़ निवासी 39 वर्षीय हेमंत कुशवाहा की न्यू मार्केट में कपड़ों की दुकान है। वे यहां पत्नी सरिता, मां सावित्री देवी और दो बेटों धीरज (16) व निखिल (14) के साथ रहते थे। छोटे भाई जितेंद्र अपने परिवार के साथ इसी कॉलोनी के दूसरे मकान में रहते हैं। जितेंद्र ने बताया कि गुरुवार सुबह 10:20 बजे मुझे वॉट्सएप पर भैया ने वीडियो भेजा। मैंने वीडियो खोला तो इसमें वे खुदकुशी की बात करते हुए सुनाई दिए। मैं दौड़कर उनके घर पहुंचा और भाभी से पूछा कि भैया कहां हैं। फिर मैंने भैया को कॉल किया। किसी अंजान व्यक्ति ने फोन रिसीव किया। पता चला कि भैया ने सीहोर में क्रीसेंट वाटर पार्क के पास जहर खा लिया था।

जब सिबिल स्कोर खराब था तो LOAN क्यों दिया

जितेंद्र ने रिकवरी एजेंट्स के तरीके पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि भैया को करीब 80 हजार रुपए की EMI देनी पड़ रही थी। करीब 6 लाख रुपए उन्होंने चुकाए भी, लेकिन बिजनेस ठीक न चल पाने के कारण आमदनी काफी कम हो गई थी। ऐसे में उन्हें जगह-जगह रोककर बेइज्जत करना कहां तक जायज है। बगैर सिबिल देखे पहले उन्हें फायनेंस कंपनी और BANK वाले LOAN देते चले गए, बाद में उन्हें आए दिन परेशान कर रहे थे। उनका कहना है कि एजेंटस कानूनी प्रक्रिया करते, बेइज्जत करना कितना जायज है।

पत्नी का आरोप... दो महीने से रिकवरी एजेंट कर रहे थे जलील

सरिता ने बताया कि हेमंत ने अलग-अलग छह फायनेंस कंपनियों और बैंकों से करीब 35 लाख रुपए का LOAN लिया था। किसी ने उन्हें हाउसिंग लोन (HOUSING LOAN) दे दिया तो किसी ने बिजनेस लोन (BUSINESS LOAN)। दो महीने से उन्हें रिकवरी वाले परेशान कर रहे थे। कभी रात 11 बजे घर पर आकर जलील करते थे तो कभी सुबह 8 बजे। दुकान पर भी कई बार जाकर हंगामा कर चुके थे। इस प्रताड़ना का जिक्र वे कई बार हमसे कर चुके थे। आत्महत्या करने से पहले वे बेटे को उसके परीक्षा केंद्र छोड़ने गए थे। हमने सोचा भी नहीं था कि वे ऐसा कदम उठाएंगे।

हर बिंदु की होगी जांच, परिजन के जल्द होंगे बयान

हेमंत ने सीहोर के कोतवाली थाना क्षेत्र में गुरुवार सुबह जहरीला पदार्थ खा लिया था। उन्हें इलाज के लिए भोपाल भेजा गया, जहां उनकी मौत हो गई। इस मामले में मर्ग कायम कर लिया गया है। हर बिंदु पर जांच की जा रही है। जल्द ही परिवार के बयान भी लिए जाएंगे।
मनोज मिश्रा, टीआई, कोतवाली सीहोर


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here