मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में प्राचार्य नहीं अभिभावक झंडा फहराएंगे | MP NEWS
       
        Loading...    
   

मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में प्राचार्य नहीं अभिभावक झंडा फहराएंगे | MP NEWS

भोपाल। इस बार गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में अभिभावक झंडा फहराएंगे। साथ ही भाषण भी देंगे। अभी तक स्कूल के प्राचार्य या प्रधानाध्यापक ही गणतंत्र दिवस पर झंडा वंदन करते थे। सरकारी स्कूलों में गठित शाला प्रबंधन समिति (एसएमसी) की सहभागिता स्कूलों में बढ़ाने के लिए गणतंत्र दिवस पर उनकी भूमिका महत्वपूर्ण की गई है। समिति के अध्यक्ष यानि अभिभावक ही स्कूलों में झंडा वंदन करेंगे। इस संबंध में दो दिन स्कूलों में समिति को प्रशिक्षण भी दिया गया। 

26 जनवरी पर अभिभावक स्कूल की बेहतरी के लिए उद्बोधन भी देंगे। इसके लिए कई स्कूलों में समिति को भाषण देने की तैयारी भी कराई जा रही है। इसे लेकर राज्य शिक्षा केंद्र ने आदेश जारी कर दिए हैं। स्कूलों में दो दिन का प्रशिक्षण कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है। ज्ञात हो प्रदेश में सवा लाख शासकीय प्राथमिक व माध्यमिक स्कूल हैं। सभी स्कूलों में दिसंबर में एसएमसी गठित की गई थी। इनका शपथ ग्रहण समारोह भी होगा।

एसएमसी को शपथ दिलाई जाएगी

पिछले माह शासकीय प्राथमिक व माध्यमिक स्कूलों में एसएमसी गठित की गई है। समिति के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदस्यों को 25 जनवरी को स्कूलों में शपथ दिलाई जाएगी। इसके बाद समिति के सदस्यों और माता-पिता के नाम स्कूल शिक्षा मंत्री का संदेश वाचन होगा। इसके बाद समिति को प्रशिक्षित भी किया जाएगा।

एसएमसी का स्कूलों में बढ़ेगा दायित्व

स्कूल शिक्षा विभाग सरकारी स्कूलों में शिक्षण व्यवस्था सुधारने के लिए अभिभावकों की सहभागिता बढ़ाने पर जोर दे रहा है। इस बार एसएमसी में महिला व पुरुष की भागीदारी बराबर की गई है। साथ ही स्कूलों की हर कार्ययोजना में एसएमसी का दायित्व बढ़ाया गया है।

--------------
स्कूलों में अभिभावकों की सहभागिता बढ़ाने के लिए इस बार गणतंत्र दिवस पर उनसे झंडा वंदन करवाएंगे। इस बार एसएमसी को जिम्मेदारी दी गई है।
- आईरीन सिंथिया जेपी, संचालक राज्य शिक्षा केंद्र