सतधारा हत्याकांड: पुलिस की लापरवाही के कारण हुआ, थाने में शव रखकर प्रदर्शन | JABALPUR NEWS
       
        Loading...    
   

सतधारा हत्याकांड: पुलिस की लापरवाही के कारण हुआ, थाने में शव रखकर प्रदर्शन | JABALPUR NEWS

सिहोरा/जबलपुर। मझगवां थाना के ग्राम कूम्ही में जिस युवक की कुल्हाड़ी मारकर हत्या की गई और परिजनों को अधमरा कर दिया जिसमें एक अन्य की हालत गंभीर बनी हुई है। वहीं परिजनों ने मृतक के शव को थाने लाकर रात में हंगामा करते हुए पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। इलाज के दौरान जेठ रविन्द्र कुम्हार ने दम तोड़ दिया, वहीं बहू की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस ने चार आरोपितों में तीन को हिरासत में ले लिया हैं, वहीं चौथे की तलाश की जा रही है। 

मेडिकल में पोस्टमार्टम के बाद देर शाम मृतक का शव लेकर मझगवां थाने पहुंच गए और हंगामा शुरू कर दिया। मृतक के परिजनों का आरोप था कि पुलिस ने पैसा लेकर आरोपितों को फरार कर दिया। जब तक चारों आरोपितों की गिरफ्तारी नहीं होती है, वह मृतक का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। मझगवां थाना अंतर्गत कुम्ही (सतधारा) गांव में प्रधानमंत्री आवास की जमीन को लेकर एक पक्ष के चार लोगों ने जेठ और बहू पर फावड़ा और लाठी से हमला कर दिया। हमले में दोनों के सिर, हाथ-पैर में गंभीर चोटें आने पर सिहोरा सिविल अस्पताल लाया गया। दोनों की हालत नाजुक होने पर प्राथमिक उपचार के बाद मेडिकल रैफर कर दिया। 

मझगवां थाना प्रभारी सुखदेव धुर्वे के मुताबिक ग्राम कुम्ही (सतधारा) में पीएम आवास योजना की स्वीकृत जगह को लेकर गांव का रविन्द्र चक्रवर्ती और रामचरण राय अपना-अपना दावा ठोंक रहे थे। बुधवार सुबह करीब आठ बजे के लगभग रविन्द्र की बहू भागवती चक्रवर्ती (२७) और उसका पति रवि प्रकाश चक्रवर्ती पीएम आवास की जगह पर खंभा लगा रहे थे। इसी बीच रामचरण राय (६५) अपने बेटों गोविंद राय (५५), प्रकाश राय (४०) सुदर्शन राय (४५) के साथ वहां पहुंचा और कहने लगा कि यह हमारी जमीन है, यहां कैसे खंभा लगा रहे हो। इसी बात को लेकर विवाद शुरू हो गया और चारों ने भागवती और उसके जेठ रविन्द्र चक्रवर्ती पर फावड़े और लठ्ठ से हमला कर दिया। जिसमें दोनों को गंभीर चोटें आईं। दोनों घायलों को इलाज के लिए सिहोरा अस्पताल लाया गया, जहां हालत नाजुक होने पर उन्हें मेडिकल कॉलेज रैफर कर दिया गया। करीब चार बजे के लगभग रविन्द्र की इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं भागवती की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है।

एक माह से पुलिस दबा रही थी प्रकरण

आरोपितों ने करीब एक माह पहले निर्माणाधीन पीएम आवास को तोड़ दिया था। जिसकी शिकायत घायल महिला के परिजनों ने मझगवां थाने में की थी, लेकिन पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। जिससे आरोपितों के हौंसले बढ़ गए और उन्होंने महिला पर जानलेवा हमला कर जेठ को मौत के घाट उतारा दिया। 

इनका कहना
जमीन के विवाद को लेकर दो पक्षों में विवाद के बाद एक घायल की मौत हो गई, वहीं दूसरे की हालत गंभीर है। आरोपितों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर तीन आरोपितों को हिरासत में ले लिया गया है, वहीं चौथे की तलाश जारी है।
भावना मरावी, एसडीओपी सिहोरा