Loading...

हनी ट्रैप वाले नेता और नौकरशाहों का खुलासा कर रहा अखबार " सांझा लोकस्वामी" सील, संपादक के घर सहित पांच ठिकानों पर छापे | INDORE

इंदौर। मध्य प्रदेश के सबसे हाई प्रोफाइल हनीट्रैप मामले में सरकार ने बहुत बड़ी कार्रवाई की है। हनी ट्रैप मामले में लड़कियों से संबंध बनाने वाली नेता और नौकरशाहों का खुलासा करने वाले अखबार " सांझा लोकस्वामी" को सील कर दिया गया। सरकार के आधा दर्जन से ज्यादा विभागों के अधिकारी एक साथ कार्रवाई करने पहुंचे। भारी पुलिस बल और वज्र वाहन के साथ इलाके को छावनी बना दिया गया। पत्रकार जीतू सोनी से जुड़े पांच ठिकानों पर कार्रवाई की गई है। बता दें कि हाल ही में पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा का वीडियो इसी मीडिया हाउस द्वारा जारी किया गया था।

भारी पुलिस बल के साथ, सरकार के आधा दर्जन से ज्यादा विभागों के अधिकारी छापा मारने पहुंचे

पुलिस और प्रशासन ने शाम से ही छापा मारने की रणनीति तैयार कर ली थी। रात साढ़े 11 बजे पुलिस, नगर निगम, बिजली कंपनी, आबकारी विभाग, खाद्य विभाग के अमले ने एक साथ गीता भवन और साउथ तुकोगंज स्थित दो होटलों, न्यू पलासिया स्थित रेस्त्रां, प्रेस कॉम्प्लेक्स स्थित मीडिया हाउस, कनाड़िया रोड स्थित निवास पर एक साथ छापा मारा। मौके पर पहुंचे पुलिस अफसरों और संस्थान के कर्ता-धर्ताओं के बीच जमकर हुज्जत हुई। उन्होंने कहा कि आप किस तरह की कार्रवाई करने आए हैं? उन्होंने भारी पुलिस बल लाने पर आपत्ति ली और अतिरिक्त बल हटाने के लिए कहा।

सर्चिंग के नाम पर वज्र वाहन लेकर आए थे, घर में 40 जवान को से

एसडीएम राकेश शर्मा ने संस्थान से जुड़े अमित सोनी से कहा कि वे सर्चिंग करने आए हैं और उन्हें न रोका जाए। सोनी ने कहा कि सर्चिंग के लिए दो-तीन अफसर जा सकते है। इसके बाद चुनिंदा अफसरों की टीम कार्रवाई करने भीतर पहुंची। देर रात 11 गाड़ियों समेत दो वज्र वाहन भरकर 70-80 पुलिसबल कनाड़िया रोड स्थित मकान पर पहुंचे। 30 से 40 जवान घर के अंदर घुसे और सर्चिंग शुरू कर दी। घर में घुसने को लेकर पुलिस और परिजनों के बीच विवाद भी हुआ।

हनी ट्रैप में फंसे रसूखदार ओं का खुलासा कर रहे थे, बदले की कार्रवाई

हनीट्रैप मामले में लगातार हो रहे खुलासे के बाद मीडिया हाउस ने शनिवार को कोर्ट में हार्ड डिस्क वकील के माध्यम से पेश की थी। इसमें कई बड़े राजनेता और ब्यूरोक्रेट के फुटेज भी बताए जा रहे हैं। इसके बाद मीडिया हाउस के कर्ता-धर्ता को मिली पुलिस सुरक्षा हटा ली गई। बताते हैं कि शाम से ही कार्रवाई की रणनीति तैयार हो गई थी। छापा मारने से पहले सभी टीमों को पहले रेसीडेंसी कोठी पर बुलवा लिया गया था तब तक गीताभवन क्षेत्र स्थित होटल पर भारी भीड़ लग चुकी थी।