Loading...

आप इतने पतले क्यों हैं: इस सवाल का जवाब देकर IAS बना | ias interview questions in hindi

यदि जॉब इंटरव्यू के दौरान कोई आपसे यह पूछा कि आप इतने पतले क्यों है तो आप क्या जवाब देंगे। क्या उम्मीद कर सकते हैं की यूपीएससी जैसे एग्जाम में इंटरव्यू के दौरान यही सवाल पूछा गया था और इसके जवाब के आधार पर उम्मीदवार का चयन कर लिया गया। यूपीएससी की तैयारी कर रहे हैं उम्मीदवारों के लिए यह जानना जरूरी है की इंटरव्यू में क्या होता है और किस तरह के सवाल पूछे जाते हैं। इंटरव्यू करीब 25 मिनट चलता है, यह 25 मिनट उम्मीदवार की जिंदगी के सबसे महत्वपूर्ण 25 मिनट होते हैं। उसके जवाब यादों से एक आईएएस ऑफिसर बना देते हैं या फिर वह फिर से बेरोजगार हो जाता है। 

यूपीएससी इंटरव्यू में किस तरह के सवाल पूछे जाते हैं

यूपीएससी के पूर्व चेयरमैन दीपक गुप्ता ने बताया कि उम्मीदवार के अंदर से एक ईमानदार इंसान की झलक दिखनी चाहिए। एक पुराने वाकये का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि एक बार इंटरव्यू बोर्ड के सदस्य ने उम्मीदवार से पूछा - Why are you so Lean and Thin? ( आप इतने दुबले पतले क्यों हैं? ) । उम्मीदवार ने जवाब में कहा- Sir, IAS is not joke and Allahabad University is not sanatorium । ( आईएएस कोई मजाक नहीं है और इलाहाबाद यूनिवर्सिटी कोई सेनेटोरियम (जहां मरीजों को स्वस्थ करने के लिए लंबे समय तक रखा जाता है) नहीं है। 

कैसे पता करें यूपीएससी के इंटरव्यू में किस तरह के सवाल आएंगे

यूपीएससी के पूर्व चेयरमैन दीपक गुप्ता ने कहा कि यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा के सिलेबस में यह साफ साफ लिखा होता है कि इंटरव्यू का क्या उद्देश्य है। हर उम्मीदवार को इस पर जरूरी नजर डालनी चाहिए। उसमें लिखा होता है उम्मीदवार का एटीट्यूट, कम्युनिकेशन एबिलिटी, लॉजिकल रीजनिंग चेक की जाएगी। इंटरव्यू में उम्मीदवार को नॉलेज का नहीं बल्कि उसकी अवेयरनेस का टेस्ट होता है। नॉलेज पहले की परीक्षाओं में हो चुकी होती है। देश दुनिया की हलचल से आपका रूबरू होना जरूरी होता है। इसके अलावा आप जो भी बात कहें उसके हर पहलू से आपको अवगत होना चाहिए। 

यूपीएससी इंटरव्यू में जाने से पहले किन बातों का ध्यान रखें

अगर इंटरव्यू बोर्ड में से कोई सदस्य आपके जवाब पर काउंटर कर दें तो आप क्या कहेंगे। हर पहलू के बारे में सोचना चाहिए। हर विषय को गंभीरता से लेने और समझने की जरूरत होती है। कॉन्फिडेंस, नॉर्मल और नेचुरल होना चाहिए। उन्होंने बताया कि उम्मीदवार के अंदर से एक ईमानदार इंसान की झलक दिखनी चाहिए। आपको अपनी बात को कहना, आर्ग्यू करना आना चाहिए। आपको आगे बहुत बड़ी जिम्मेदारी संभालनी है।

क्या यूपीएससी का CSAT पैटर्न आर्ट्स वालों के खिलाफ और साइंस वालों की मदद करता है

वीडियो इंटरव्यू में दीपक गुप्ता ने कहा कि ऐसा कहना गलत है कि UPSC का CSAT पैटर्न आर्ट्स वालों के खिलाफ है या साइंस वालों की मदद करता है। क्वेश्चन पेपर के स्टैंडर्ड को देखना जरूरी है। आमतौर पर CSAT जैसे प्रश्न बैंक समेत अन्य बहुत सी सरकारी नौकरी की प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। ये लॉजिकल क्वेश्चन होते हैं। आईएएस परीक्षा में बैठ रहे हैं तो आपका कॉम्प्रिहेंशन टेस्ट किया जा रहा है। कॉम्प्रिहेंशन तो आर्ट्स व साइंस दोनों स्ट्रीम के स्टूडेंट्स कर सकते हैं। रीजनिंग के सवाल सभी को आने चाहिए। ये मुश्किल क्वेश्चन नहीं होते। बहुत सारी कमिटीज ने गहन विचार-विमर्श के बाद सीसैट की सिफारिश की थी। आईएएस बनना चाह रहे युवाओं को थोड़ी बहुत इंग्लिश आनी चाहिए। ग्लोबलाइजेशन के दौर में इंग्लिश का आना जरूरी है।