Loading...

भोपाल में माफिया के होटल नहीं सिर्फ छज्जे गिराए जा रहे हैं: माफिया का मददगार प्रशासन | BHOPAL NEWS

भोपाल। राजधानी में माफिया के खिलाफ कार्रवाई करने के नाम पर सिर्फ होटलों के ऊपरी माले व छज्जे तोड़े जा रहे हैं। गुरुवार को जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम ने चेतक ब्रिज के पास स्थित होटल एंजिल व आईएसबीटी के पास स्थित 'होटल 18 कीज' पर कार्रवाई की। दोनों होटल के चौथे माले और अवैध निर्माण को हटाया गया। निगम अधिकारियों ने बिल्डिंग परमिशन की शर्त का उल्लंघन बताकर होटलों के फ्लोर को तोड़ा है। 

प्रशासन ने अनिल तलरेजा को सट्टा माफिया और दिलीप शिवहरे को शराब माफिया मानकर उनके खिलाफ कार्रवाई की है। एसडीएम एमपी नगर राजेश गुप्ता ने बताया कि बेक एंड शेक सीरीज के होटल कीज-18 में अवैध रूप से लॉज और रेस्टोरेंट चलाया जा रहा था। वहीं, कस्तूरबा नगर स्थित होटल एंजिल में अवैध रूप से एक फ्लोर अतिरिक्त बना रखा था।

होटल कीज-18 के संजय तलरेजा ने बताया कि आसपास की सभी इमारतों में चौथा फ्लोर बिना अनुमति बनाया गया है। बावजूद इसके सिर्फ उन्हीं के होटल पर कार्रवाई की गई है। उनके पास समस्त अनुमति हैं। फिर भी ऊंचाई की बात कहकर निर्माण तोड़ा जा रहा है।

इधर, एंजिल होटल के समीर शिवहरे ने बताया कि वे कंपाउंडिंग राशि जमा करवाने के लिए तैयार थे, लेकिन निगम अफसरों ने उनकी नहीं सुनी और तोड़-फोड़ कर दी। बता दें कि मास्टर प्लान में एमपी नगर में आवासीय व व्यावसायिक की शर्त पर 2100 वर्गफीट तक के प्लाट पर महज 12 मीटर ऊंची इमारतें ही बनाई जा सकती हैं। इन दोनों होटल ने एक फ्लोर अवैध रूप से बना रखा था, जिसे गिरा दिया गया है।

एक्सपर्ट अमले की कमी...निगम अफसरों से भिड़े एंजिल होटल संचालक

नगर निगम के पास न तो एक्सपर्ट अमला है और न ही पर्याप्त मशीनें। ऐसे में गुरुवार को होटलों को तोड़ने के लिए छेनी व हथोड़े का इस्तेमाल करना पड़ा। एंजिल होटल के संचालक समीर शिवहरे निगम अफसरों से भिड़ गए। इस दौरान तीखी बहस और नोकझोंक भी हुई।

- अवैध कॉलोनी हटाई

इधर, एसडीएम हुजूर राजेश श्रीवास्तव ने बताया कि कान्हासैया स्थित हुजूर के ग्राम आदर्श नगर, दिव्य सिटी कॉलोनी में नाले की जमीन पर अवैध निर्माण किए जा रहे थे। जिन्हें हटाने की कार्रवाई की गई। कान्हासैया स्थित खसरा नंबर 853 पर 3 हेक्टेयर में अवैध कॉलोनी काटी जा रही थी, बिना अनुमति शुरू किए गए निर्माण को तोड़ा गया और जमीन खाली करवाई गई।