Loading...

महाराष्ट्र: कमलनाथ ने तोड़ा भाजपा का तिलिस्म, उद्धव ठाकरे ने खुद फोन लगाकर धन्यवाद दिया | MP NEWS

भोपाल। महाराष्ट्र की राजनीति में वह 80 घंटे सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण थे जब भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके थे और अजित पवार ने इस्तीफा नहीं दिया था। इन 80 घंटों में भाजपा का एक तिलिस्मी नजर आया जिसमें शिवसेना और शरद पवार फंसे हुए दिखाई दे रहे थे, लेकिन अचानक सब कुछ साफ होता चला गया। बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र में गठबंधन की सरकार को शक्ति देने के लिए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ में पर्दे के पीछे बड़ी भूमिका निभाई। 

कमलनाथ ने भाजपा की हर चाल फेल की 

यह बताने की जरूरत नहीं की इस तरह की राजनीति के लिए कमलनाथ भारत के सबसे बड़े ब्रांड है। उनकी इसी अदा के कारण तमाम विरोध के बावजूद आज वह मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं। देवेंद्र फडणवीस एवं अजीत पवार को आनन-फानन शपथ दिलाकर भाजपा के रणनीतिकारों का प्लान था कि एनसीपी के विधायकों में तेजी से तोड़फोड़ कर लेंगे। शरद पवार को संभलने का मौका मिलने से पहले ही अजित पवार के पास पर्याप्त संख्या में विधायक होंगे। वह विधानसभा में एनसीपी विधायक दल की नेता है इसलिए उनकी वैधानिकता बरकरार रहेगी लेकिन ऐसा कुछ नहीं हो पाया क्योंकि शपथ ग्रहण की खबर के साथ ही मध्य प्रदेश से कमलनाथ एक्टिव हो गए थे। 

उद्धव ठाकरे ने धन्यवाद दिया, शपथ ग्रहण समारोह में बुलाया 

खबर आ रही है कि महाराष्ट्र के प्रस्तावित मुख्यमंत्री एवं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कमलनाथ को व्यक्तिगत रूप से फोन करके इस राजनीतिक संकट से निकालने के लिए धन्यवाद दिया एवं उन्हें शपथ ग्रहण समारोह में आमंत्रित किया। हालांकि इस आमंत्रण की आधिकारिक सूचना अभी तक नहीं आई है।