Loading...

जलियाँवाला नरसंहार के लिए इंग्लैंड भारत से माफी मांगेगा | ENGLAND ELECTION


NEW DELHI - ANAND BANDEWAR: इंग्लैंड की लेबरर पार्टी के घोषणा पत्र में यह कहा गया है कि अगर उनकी सरकार बनी तो वे भारत में हुए जलियाँवाला बाग़ नरसंहार पर माफ़ी मांगेंगे। ब्रिटेन में चुनाव होने हैं और इस समय जलियाँवाला बाग़ नरसंहार एक बड़ा चुनावी मुद्दा बन गया है। आपको बता दें की ब्रिटेन में 12 दिसंबर को आम चुनाव होने वाले हैं और इसके लिए सभी पार्टियों ने अपनी कोशिशें तेज़ कर दी हैं।
इस समय लेबरर पार्टी विपक्ष में है लेकिन अपने घोषणा पत्र में 100 साल पहले भारत में हुए जलियांवाला बाग़ नरसंहार पर माफ़ी की बात शामिल कर के उन्होंने एक बड़ा दांव खेलने की कोशिश की है, साथ ही कुछ और मुद्दों को भी शामिल किया गया गया है जैसे:
  • अगर लेबरर पार्टी की सर्कार बनती है तो वे जलियाँवाला बाग़ नरसंहार पर माफ़ी मांगेंगे 
  • देश के औपनिवेशिक अतीत की जाँच की जाएगी 
  • ऑपरेशन ब्लू स्टार के सम्बन्ध में ब्रिटेन की भूमिका की समीक्षा करेंगे 

लेबर पार्टी के नेता कॉर्बन ने 160 पन्नो का घोषणा पत्र जनता के सामने प्रस्तुत किया। और बताया की पार्टी ने इस मामले में आगे बढ़ने और माफ़ी मांगने का संकल्प किया है। यह भी कहा गया है की लेबर पार्टी अतीत में ब्रिटेन के अतीत में हुए अन्याय की जाँच के लिए भी संकल्पबद्ध है और इसके लिए एक न्यायाधीश के नतृत्व वाली समिति बनाई जाएगी। 

100 वर्ष पहले 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर के जलियाँवाला बाग़ में एक भयंकर हत्याकाण्ड हुआ था जिसके ज़ख्म भारत के सीने पर आज भी ताज़ा हैं। जलियाँवाला बाग़ में रॉलेट एक्ट का विरोध करने वालों पर अंग्रेज़ों ने बेरहमी से गोलियां बरसाई थी, जिसमेसैकड़ों की संख्या में निहत्थे आदमी, औरतें और बच्चे भी मारे गयी थे। 90 सैनिकों ने बिना रुके 10 मिनट तक हज़ारों की संख्या में मौजूद निहत्थे लोगों पर अंधाधुंध गोलयां चलायी थी, जिसमे लगभग 1650 राउण्ड फ़ायरिंग की गयी थी। इस हत्याकांड को अंजाम देने वाला जनरल डायर का नाम लोग कभी नहीं भूल सकेंगे। 

ब्रिटिश सरकार का कहना है की केवल 379 लोग ही इस हत्या कांड में मरे और 1200 लोग ज़ख्मी हुए। जबकि सच यह है की मरने वाले लोग इससे कहीं ज़्यादा थे। ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमन्त्री टेरेसा ने औपनिवेशिक काल में हुयी इस घटना के लिए गहरा अफ़सोस तो जताया था लेकिन इसके लिए माफ़ी नहीं मांगी थी।
ऑपरेशन ब्लू स्टार 

जलियाँवाला नरसंहार 13 अप्रैल 1919