Loading...

PREMIUM CAPITAL RESEARCH के 2 अधिकारी गिरफ्तार, मालिक फरार

इंदौर। शेयर बाजार में निवेश कर रुपए दोगुना करने का लालच देने वाले युवक-युवती को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। कंपनी का संचालक सचिन चौहान अभी भी फरार है। आरोपी प्रिमियम कैपिटल रिसर्च नामक कंपनी के माध्यम से ठगी को अंजाम दे रहे थे। आरोपियों द्वारा लगों से लगभग एक करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की गई है।

एसटीएफ के अनुसार शेयर बाजार में निवेश के नाम पर दोगुना मुनाफे का लालच देने वाली कंपनियों के खिलाफ विशेष जांच अभियान चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत प्रीमियम कैपिटल रिसर्च नामक कंपनी के खिलाफ शिकायत प्राप्त हुई थी। शिकायतकर्ताओं ने बताया था कि निवेश के नाम पर उनके साथ लाखों रुपए की ठगी की गई है। 

शिकायत की जांच कर पुलिस ने प्रीमियम कैपिटल रिसर्च कंपनी के दो कर्ताधर्ता अंकित पाटीदार ऊर्फ युवराज और कामिनी सोनी ऊर्फ शलिनी मेहरा को होशंगाबाद से गिरफ्तार किया। वहीं दो आरोपी सचिन चौहान और श्रीकांत फरार है। पुलिस के अनुसार आरोपी अंकित पिता कैलाश पाटीदार मूलतः सीहोर का रहने वाला है। उसने भोपाल के करियर कॉलेज से एमबीए (मार्केटिग) किया है। वहीं कामिनी सोनी गंज बासौदा जिला विदिशा की रहने वाली है। कामिनी ने भोपाल के एसआईआरटी कॉलेज से एमबीए-फायनेन्स किया है।

आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि सचिन चौहान की कंपनी में वे जॉब करते है। कंपनी सेबी में रजिस्टर्ड नहीं है लेकिन ग्राहकों को बताया जाता है कि कंपनी सेबी में रजिस्टर्ड है और हमारे अनुसार निवेश करने पर वे तगड़ा मुनाफा कमा सकते है। 

निवेश के लिए तैयार लोगों द्वारा कंपनी के एक खाते में पैसे जमा कराए जाते थे। पुलिस के अनुसार लगभग एक करोड़ रुपए की ठगी आरोपियों द्वारा की गई है। इस अपराध का मास्टर माइंड जीवनलाल नामक व्यक्ति है जो वर्तमान में एक अन्य अपराध में जेल में बंद है। जीवनलाल के कहने पर सचिन चौहान ने इस कंपनी को प्रारंभ किया और लोगों से ठगी करने लगा।

पकड़ाए गए युवक युवती के पास से पुलिस ने मोबाइल, बैंक के क्रेडिट कार्ड, कंप्यूटर, लैपटॉप आदि बरामद किए हैं जिनकी जांच की जा रही है। वहीं अन्य दो फरार आरोपियों की तलाश भी की जा रही है।