Loading...

कांग्रेस प्रचारक आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को अतृप्त आत्मा कहा! | MP NEWS

ग्वालियर। संत और कल्कि पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम् जो कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारक भी है, ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ ग्वालियर में आकर ज्योतिरादित्य सिंधिया पर बड़ा हमला किया है। हालांकि उन्होंने नाम नहीं लिया लेकिन कहा कि कांग्रेस में बैठी कुछ अतृप्त आत्माएं पार्टी की दुश्मन है। बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया इन दिनों मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद के लिए सबसे प्रबल दावेदार हैं और कमलनाथ व दिग्विजय सिंह गुट नहीं चाहते कि सिंधिया अध्यक्ष पद पर बैठे। 

इस बयान के लिए ग्वालियर को ही क्यों चुना

कांग्रेस के स्टार प्रचारक, संत और कल्कि पीठाधीश्वर आचार्य प्रमोद कृष्णम् ने कहा है कि कांग्रेस का दुश्मन कोई और नहीं बल्कि पार्टी में ही बैठीं कुछ अतृप्त आत्माएं हैं। इऩ्हें पार्टी कुछ भी दे दे, लेकिन वे कभी संतृप्त नहीं हो सकती है। पार्टी में ये अतृप्त आत्माएं कौन हैं? इस सवाल पर पहले उन्होंने कहा- उऩके बारे में आप सब बेहतर जानते हैं। इस दौरान आचार्य प्रमोद कृष्णम ने इशारों ही इशारों में ज्योतिरादित्य सिंधिया पर निशाना साधा और कहा कि, 'राहुल गांधी के कुछ मित्र ही कांग्रेस को बर्बाद कर रहे हैं।' आचार्य प्रमोद ने यह बयान ग्वालियर में दिया। बताने की जरूरत नहीं कि आचार्य प्रमोद के मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह से बड़े ही करीबी संबंध है। प्रश्न यह है कि यदि उनका टारगेट ज्योतिरादित्य सिंधिया नहीं थे तो इस तरह का बयान देने के लिए उन्होंने ग्वालियर को ही क्यों चुना। 

1 सप्ताह से सिंधिया हमलावर हैं 

याद दिला दें कि कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद के नाम का ऐलान टल जाने के बाद से ही ज्योतिरादित्य सिंधिया लगातार हमलावर बने हुए हैं। वह आए दिन कमलनाथ सरकार को घेर रहे हैं एवं खुलेआम स्वीकार कर रहे हैं कि विधानसभा चुनाव के समय जो वादे किए गए थे वह अब तक पूरे नहीं हो पाए। किसान कर्ज माफी जैसे संवेदनशील मुद्दे पर भी सिंधिया ने कमलनाथ को वचन भंग का दोषी बता दिया था। यहां जिक्र जरूरी है कि विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस ने वचन दिया था कि सरकार बनने के 10 दिन के भीतर किसानों का ₹200000 तक का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। यह डेडलाइन कांग्रेस ने खुद तय की थी। हालात यह है कि 10 महीने गुजर जाने के बाद भी किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ है।